सीमा विवाद के बीच अब चीन की कोशिश पानी को लेकर जंग छेड़ने की है

China अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। सीमा विवाद के बीच अब उसकी कोशिश पानी को लेकर जंग छेड़ने की है। चीन तिब्बत से India की ओर बहने वाली नदियों पर कई बड़े बांध बनाने की तैयारी कर रहा है। इन बाधों को वह भारत के खिलाफ एक weapons के तौर पर इस्तेमाल करेगा। गर्मी के weather में उसकी कोशिश पानी रोककर भारत के निचले इलाकों में सूखा पैदा करने की होगी। इसी तरह, बरसात में चीन पानी छोड़कर भारतीय इलाकों में बाढ़ भी ला सकता है। China इन दिनों Yarlung Zangbo River पर एक Mega-dam बनाने की योजना पर काम कर रहा है। इस Dam के बारे में ज्यादा जानकारी तो सामने नहीं आई है, लेकिन बताया जा रहा है कि इससे चीन में बने दुनिया के सबसे बड़े बांध Three Gorges से भी तीन गुना ज्‍यादा पनबिजली पैदा की जा सकेगी। जानकारों का मानना है कि चीन के इस विशाल आकार के बांध से भारत के पूर्वोत्‍तर राज्‍यों और Bangladesh में सूखे जैसी स्थिति पैदा हो सकती है। बता दें कि Zangbo भारत में दाखिल होते Brahmaputra नदी बन जाती है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि Yarlung Zangbo (Brahmaputra River) नदी पर बांध बनाने को लेकर चीन ने भारत और बांग्लादेश से चर्चा तक नहीं की है। वह खुले रूप में जल बंटवारे को लेकर हुई संधियों की अनदेखी कर रहा है। इस नदी के निचले हिस्से में आने वाले पड़ोसियों के साथ विचार-विमर्श की कमी दक्षिण पूर्व एशिया में विवादों को जन्म दे सकती है। रिपोर्ट के अनुसार, चीन ने Brahmaputra की तरह कई देशों से बहने वाली Mekong River पर भी 11 मेगा डैम बनाए हैं। चीन ने इस बारे में Myanmar, Laos, Thailand, Cambodia and Vietnam को भी कोई पूर्व सूचना नहीं दी थी। China brahmaputra पर यह बांध तिब्‍बत के Meadowg County में बना सकता है, जो भारत के Arunachal Pradesh की सीमा के बेहद करीब है। गौरतलब है कि बीजिंग पहले ही ब्रह्मपुत्र नदी पर कई छोटे-छोटे बांध बना चुका है। माना जा रहा है कि इस नए बांध को चीन की राष्ट्रीय सुरक्षा को ध्‍यान में रखकर बनाया जाएगा। विशेषज्ञों का कहना है कि यदि चीन इस दिशा में आगे बढ़ता है, तो भारत के साथ उसका तनाव और बढ़ जाएगा। पहले से ही दोनों देश सीमा विवाद को लेकर आमने-सामने हैं।



 


    Share this story