LGBT समुदाय ने किया नए राष्ट्रपति के फैसले का स्वागत

America के राष्ट्रपति Joe Biden ने पूर्व राष्ट्रपति Donald Trump का एक और फैसला पलट दिया है। उन्होंने सेना में Transgenders की भर्ती पर लगाया गया विवादित प्रतिबंध सोमवार को हटा दिया। Biden के इस कदम का LGBT समुदाय ने स्वागत किया है। ACLU ने इस फैसले पर खुशी जताते हुए कहा है कि यह ट्रांसजेंडरों के अधिकारों की लड़ाई में एक बड़ी सफलता है। राष्ट्रपति कार्यालय ने इस फैसले बारे में Tweet करके जानकारी दी है। Joe Biden के कार्यभार संभालने के बाद से ही माना जा रहा था कि वो Pentagon की इस नीति में बदलाव कर सकते हैं। White House की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है - राष्ट्रपति Joe Biden मानते हैं कि किसी की लैंगिक पहचान को सेना में काम करने का मापदंड नहीं बनाया जाना चाहिए। अमेरिका के सभी योग्य नागरिकों का सेना में शामिल होना देश और सेना दोनों के लिए बेहतर है, क्योंकि एकजुट बल ज्यादा प्रभावी होता है। सीधे शब्दों में कहें तो ये हमारे राष्ट्रीय हित में है। America की ताकत उसकी विविधता में है। 

Biden ने पदभार ग्रहण करते ही Donald trump के फैसलों को पलटना शुरू कर दिया है। बीते बुधवार उन्होंने एक साथ कई कार्यकारी आदेशों पर हस्‍ताक्षर किए थे। इसमें प्रवासियों को राहत, कई मुस्लिम देशों से यात्रा पर लगाया गया बैन हटाने, कोरोना के खतरे को देखते हुए देशभर में मास्‍क अनिवार्य करने और मैक्सिको की सीमा पर बन रही बाड़ के पैसे को भी रोक लगाने जैसे कई आदेश शामिल हैं। माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में Biden trump के और भी कई फैसलों को पलट सकते हैं। Biden प्रशासन ने ऊर्जा विभाग में अहम पदों पर चार भारतवंशियों को नियुक्त किया है। प्रशासन ने चीफ ऑफ स्टाफ के पद पर तारक शाह को नियुक्त किया है। शाह इस पद पर पहुंचने वाले भारतीय मूल के पहले अमेरिकी बन गए हैं। जबकि Tanya Das को विज्ञान से जुड़े मामलों के विभाग Office of science की chief of staff बनाया गया है, Narayan Subramaniam ऑफिस ऑफ जनरल काउंसेल में विधिक सलाहकार के पद पर नियुक्त हुए हैं और शुचि तलाती जीवाश्म ऊर्जा से संबंधित विभाग में chief of staff नियुक्त की गई हैं। 


    Share this story