चीन ने देश में छपे 30,000 विश्व मानचित्रों को नष्ट किया

Medhaj News 26 Mar 19,21:10:42 World
china.png

चीन, भारत के पूर्वोत्तर राज्य अरुणाचल प्रदेश पर दक्षिण तिब्बत का हिस्सा होने का दावा करता है |  चीन अपने रुख को उजागर करने के लिए आए दिन अरुणाचल प्रदेश में भारतीय नेताओं के आने पर आपत्ति जताता रहता है | भारत का कहना है कि अरुणाचल प्रदेश उसका अभिन्न हिस्सा है और भारतीय नेता देश के अन्य हिस्सों की तरह समय-समय पर अरुणाचल प्रदेश जाते रहते हैं | दोनों देशों ने 3,488 किलोमीटर लंबी वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) से जुड़े सीमा विवाद को हल करने के लिए अभी 21 चरणों की वार्ता की है | चीन ने अरुणाचल प्रदेश और ताइवान को अपने क्षेत्र का हिस्सा ना दिखाने को लेकर देश में छपे 30,000 विश्व मानचित्रों को नष्ट कर दिया है |





छपी एक खबर के मुताबिक, इन मानचित्रों को किसी देश को भेजा जाना था | इस देश का नाम अभी मालूम नहीं है | खबर में बताया गया कि चीन के किंगदाओ में सीमा शुल्क अधिकारियों ने करीब 30,000 गलत विश्व मानचित्रों को नष्ट कर दिया जिसमें ताइवान को अलग देश दिखाया गया था और चीन-भारत सीमा का गलत चित्रण किया गया था |  यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर लियु वेंगजोंग ने कहा -चीन ने इस संबंध में जो किया वह पूरी तरह वैध और आवश्यक है क्योंकि संप्रभुत्ता और क्षेत्रीय अखंडता किसी भी देश के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीजें होनी चाहिए |


    Comments

    • Medhaj News
      Updated - 2019-03-26 16:23:15
      Commented by :Asrar Alam

      यह भारत का हिस्सा था ,है और रहेगा।चाहे तुम चीन की दीवार गिरादो।


    • Load More

    Leave a comment


    Similar Post You May Like