अमेरिकी संसद में पाकिस्तान के आतंकी ठिकानों को नष्ट करने की मांग की गई

Medhaj News 29 Mar 19,16:49:49 World
Pak.jpg

एक तरफ संयुक्त राष्ट्र ने टेरर फंडिंग के खिलाफ एक प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है तो दूसरी तरफ अमेरिकी सांसद स्कॉट पेरी ने संसद में पाकिस्तान के खिलाफ प्रस्ताव लाया है, जिसमें आतंकी ठिकानों को नष्ट करने की मांग की गई है। भारत ने संयुक्त राष्ट्र में टेरर फंडिंग पर कारगर रोक लगाने और इसके लिए मानक तय करने की दिशा में फाइनैंशनल ऐक्शन टास्क फोर्स को बड़ी भूमिका सौंपने संबंधी प्रस्ताव का स्वागत किया है। प्रस्ताव का समर्थन करते हुए संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने शुक्रवार को बिना नाम लिए पाकिस्तान पर करारा हमला बोला और उसे बार-बार अपराध कराने वाला बताया। पाकिस्तान की तरफ इशारा करते हुए अकबरुद्दीन ने कहा कि कुछ देश जो आतंकवादियों का समर्थन करते हैं, वे अपनी करतूतों का बचाव करने के लिए और कार्रवाई नहीं करने के लिए लिए बहाना गढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि 'सीरियल ऑफेंडर' आतंकवाद का समर्थन कर रहे हैं। सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई के लिए बेचैन है। उन्होंने टेरर फंडिंग पर लगाम लगाने के लिए प्रस्ताव को सख्ती से लागू करने की मांग की।





FATF ने समीक्षा के बाद टेरर फंडिंग को लेकर पाकिस्तान को कठघरे में खड़ा किया है। ऐसी संभावना है कि पाकिस्तान को प्रतिबंधों को सामना करना पड़ सकता है और उसे ग्रे लिस्ट यानी निगरानी वाले देशों की सूची में डाला जा सकता है। दूसरी तरफ, अमेरिकी सांसद स्कॉट पेरी ने संसद में पाकिस्तान के खिलाफ प्रस्ताव दिया है। प्रस्ताव में पुलवामा आतंकी हमले की निंदा की गई है और पाकिस्तान में आतंकी ठिकानों को खत्म करने की मांग की गई है। प्रस्ताव में पाकिस्तान पर आतंकवादियों को पनाह देने का दोषी बताया गया है। यूएस हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव में रिपब्लिकन सांसद स्कॉट पेरी द्वारा लाए गए इस प्रस्ताव में पुलवामा आतंकी हमले की निंदा की गई है, प्रस्ताव को पेश करने के बाद पेरी ने कहा- बहुत हो चुका। अब पाकिस्तान सरकार को जवाबदेह ठहराने का वक्त आ चुका है।




    Comments

    Leave a comment


    Similar Post You May Like