भारत के बिना आसान नहीं था बच्चों को निकालना, थाईलैंड के पीएम ने कहा शुक्रिया

medhaj news 11 Jul 18,16:46:07 World
mnjbgt.jpg

दुनिया की सबसे दुर्गम गुफा में फंसे जूनियर फुटबाल टीम के बच्चे और उनके कोच सहित 13 लोगों को निकालना इतना आसान नहीं था। लेकिन, भारत सरकार के अहम योगदान के चलते यह ऑपरेशन पूरा हो पाया। इसलिए थाईलैंड के प्रधानमंत्री ने भारत का खास तौर पर शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि हम भारतीयों के प्रति आभारी हैं। दरअसल, थामलुआम गुफा में फंसे बच्चों और उनके 25 वर्षीय कोच इकापोल चानथ्वांग को निकालने के लिए थाईलैंड सरकार ने भारत सरकार से भी समर्थन मांगा था। इसके बाद भारत से हैवी केबीएस फ्लडपंप भेजा गया, जिससे गुफा में पानी का स्तर कम किया गया।
रविवार से ही इसका असर दिखाई दिया और पहली खेप में चार बच्चे गुफा से बाहर निकाल लिए गए। गोताखोर जूनियर फुटबाल के खिलाड़ियों सहित कोच को गुफा से बाहर निकालने में सफल हुए। भारत सरकार के आदेश पर केबीएस का हैवी फ्लडपंप महाराष्ट्र के सांगली जिला स्थित किर्लोस्कर समूह की कंपनी से भेजा गया था। किर्लोस्कर कंपनी के डिजाइनर हेड प्रसाद कुलकर्णी बीते शुक्रवार की रात को हैवी फ्लडपंप लेकर थाईलैंड रवाना हुए थे।गुफा में भरे हुए पानी को निकालने के लिए हैवी पंप की जरूरत थी। भारत सरकार की तरफ से यह आदेश दिया गया था कि बड़ा से बड़ा पंप लेकर पंप तकनीकी विशेषज्ञ को थाईलैंड भेजा जाए। उसके बाद किर्लोस्कर प्रबंधन ने प्रसाद कुलकर्णी को हैवी फ्लडपंप लेकर शुक्रवार को विशेष विमान से थाईलैंड भेजा। इस हैवी फ्लडपंप के जरिए गुफा से पानी निकालने का काम शुरू किया गया। जिससे रविवार से बच्चों को निकालने में गोताखोरों और बचाव दल को मदद मिली और सफल ऑपरेशन शुरू हो सका।

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends

    Special Story