रेलवे यात्रियों को मिलेगा अब शुद्ध खाना, देखा सकते है खाना बनते हुए, लाइव

Medhaj news 13 Jun 18,20:50:40 World
kitchen_IRCTC.jpg

भारतीय रेल मंत्रालय द्वारा यात्रियों की सुविधा और सुरक्षा के लिए कई सराहनीय कदम उठाए जा रहे हैं। टिकट बुकिंग का मुद्दा हो, ट्रेनों की लेटलतीफी का मुद्दा हो या फिर ट्रेनों और स्टेशनों पर मिलने वाले खाद्य सामानों के दामों का मुद्दा हो रेलवे मंत्रालय ने हाल में इन सभी पर काम किया है। इसी के साथ अब भारतीय रेलवे में सफर करने वाले यात्री अब देख पाएंगे कि रेलवे में खाना कितनी साफ सफाई से बनाया जा रहा है। रेल मंत्री पीयूष गोयल का कहना है कि अब बेस किचन में बनने वाले खाने और उससे जुड़ी प्रक्रियाओं की लाइव वीडियो स्ट्रीमिंग की जाएगी ताकि लोग देख सकें कि खाना कितनी साफ सफाई से बनाया जा रहा है। यह कदम रेलवे के खाने की लगातार बढ़ रही शिकायतों के बाद उठाया गया है।
पीयूष गोयल ने कहा, 'यात्री आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर जाकर लाइव स्ट्रीमिंग देख पाएंगे। हम एक ऐप बना रहे हैं जिससे यात्री सफर करते वक्त रेलवे में बन रहे खाने पर नजर रख पाएंगे।' रेलवे द्वारा यात्रियों के सफर को सुरक्षित और आरामदायक बनाने के लिए ये कदम उठाया गया है।
बता दें कि विभाग में पारदर्शिता लाने के लिए बिजली मंत्री रहने के दौरान भी गोयल ने कई नए आईडिया लागू किए थे। वहीं इस पहल के तहत अब तक आईआरसीटीसी के 200 बेस किचन में से 16 में कैमरे लगाने का काम पूरा किया जा चुका है। इनमें दिल्ली, मुंबई और भुवनेश्वर के किचन शामिल हैं। गोयल का यह आईडिया एआई (आर्टिफिशल इंटेलिजेंस) विजन डिटेक्शन सिस्टम और आईआरसीटीसी की तरफ से एक नया मॉड्यूल डिवेलप करने के तहत लागू किया गया है। एआई का यह मॉड्यूल एसओपी (स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रॉसिजर) के जरिए कैमरा फुटेज में कैद हुई किसी भी चीज को बारिकी से पकड़ सकता है।  
यह कार्य विजन कंप्यूटिंग मशीन की मदद से किया जाएगा। इसमें फोटो और वीडियो फुटेज की तुलना की जाती है। इस प्रक्रिया के जरिए आईआरसीटीसी की किचन में होने वाली किसी भी गलती को तुरंत पकड़ा जा सकेगा।  
मान लीजिये अगर कोई शेफ या रसोई पर्यवेक्षक बिना वर्दी के काम कर रहा है तो यह एआई सिस्टम उस पर भी नजर रखेगा और तुरंत इस बात की रिपोर्ट कॉनट्रेक्टर तक पहुंचा देगा। यदि यह मामला निश्चित समय के भीतर नहीं उठाया जाता तो इस बारे में आईआरसीटीसी के अधिकारियों को सूचित किया जाएगा।

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends