उर्दु अखबार का सर्वे... 73% POK के लोग नहीं रहना चाहते पाकिस्तान के साथ, सरकार ने बंद किया अखबार

medhaj news  |  World  |  13 Sep 17,10:20:54  |  
Pok.jpg

पाकिस्तान सरकार ने पाक अधिकृत POK में सबसे चर्चित उर्दू अखबार डेली मुजादाला के बंद करने का आदेश दे दिया है। यह अखबार यहां का सबसे अधिक बिकने वाला अखबार है। दरअसल मामला ये है कि इस अखबार ने हाल ही में एक सर्वे करवाया था। इस सर्वे में लोगों से पूछा गया कि वह पाकिस्तान के साथ रहना चाहते है? एक अंग्रेजी चैनल के अनुसार करीब 73% लोगों ने पाकिस्तान के खिलाफ मतदान किया। इस तरह की खबर सामने आने के बाद पाकिस्तान में हडकंप मच गया। पाकिस्तान सरकार ने आनन-फानन में अखबार पर ही ताला लगा दिया।

इस घटना के बाद चैनल ने अखबार के एडिटर  हारिस क्वादर से बात की और पुछा गया कि लोग आजादी के विषय में क्या बोलते है तो उनका जवाब था, ‘हमने लोगों से दो सवाल पूछे थे। पहला कि क्या वो 1948 के कश्मीर के स्टेटस को बदलना चाहते हैं तो ज्यादातर लोग इसपर सहमत दिखे। तो वहीं 73 प्रतिशत कश्मीरी पाकिस्तान से आजादी के पक्ष में नजर आए।’

इसे भी पढ़ें-5 साल के बच्चे की तीसरी मंजिल से गिरने पर हुई मौत

एडिटर ने बताया कि सर्वे के सामने आने के बाद पहले तो पाकिस्तान सरकार ने नोटिस भेजकर उन्हें डराया, इसके बाद उन्होंने दफ्तर पर ही ताला लगा दिया।

बता दें, मिली जानकारी के मुताबिक ये सर्वें 10 हजार लोगों के बीच करवाया गया। वहीं इस सर्वे को करने में लगभग 5 साल का समय लगा है। जिसमें करीब 73 प्रतिशत लोग पाकिस्तान से अलग होना चाहते है। वैसे ये पहली बार नहीं की POK में इस तरह की मांग उठी है। यहां आजादी की मांग उठती रहती है।   

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    loading...