महिला की इस कुरीति की वजह से चली गई जान

Medhaj News 4 Feb 19,18:23:03 World
file_photo_death.jpg



नेपाल में माहवारी के दौरान महिला को अस्पृश्य मानते हुए अलग-थलग रहने की इस प्रथा पर रोक लगा दी गई है। कई समुदायों में अब भी माहवारी के दौरान महिला को अपवित्र मान कर उसे इस अवधि में पारिवारिक आवास से दूर रहने के लिए बाध्य किया जाता है। नेपाल के दॉती जिले में माहवारी के दौरान घर से अलग झोंपड़ी में रह रही 21 वर्षीय महिला पार्वती बोगाती की दम घुटने से मौत हो गई। हालांकि 2005 में नेपाल के सुप्रीम कोर्ट ने इस प्रथा पर प्रतिबंध लगा दिया था। 2017 में नया कानून बनाकर ऐसा करना अपराध घोषित कर दिया गया है,





लेकिन फिर भी उसके बाद नेपाल के कई हिस्सों में यह प्रथा जारी है। 31 जनवरी की रात को वह झोपड़ी में अकेली रह गई थी। सर्दी से बचने के लिए उसने आग जलाई थी। 31 जनवरी की सुबह नियत समय पर पार्वती सोकर नहीं उठी तो उसकी सास लक्ष्मी बोगती झोपड़ी में गई। उसने देखा कि भीतर पार्वती मृत हालत में थी। उसने तत्काल पुलिस को इसकी खबर दी। पोस्टमार्टम के लिए पुलिस शव को अपने साथ ले गई है।



 


    Comments

    Leave a comment


    Similar Post You May Like