H-1B वीजा वाले एग्जिक्यूटिव ऑर्डर पर ट्रंप ने किए साइन, कहा ‘बाय अमेरिकन, हायर अमेरिकन’

medhaj news 19 Apr 17,16:51:11 World
america.jpg

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत की आईटी कंपनी को एक बड़ा झटका दिया है। ट्रंप ने ‘बाय अमेरिकन, हायर अमेरिकन’ कार्यकारी आदेश पर साइन कर दिए है। यह कदम H-1B वीजा के दुरूपयोग को रोकने के लिए उठाया गया है। वहीं इसका मकसद भी ट्रंप सरकार ने साफ किया है। इसका पीछे का मकसद अमेरिकन लोगों को नौकरियों में प्राथमिकता देने के लिए बाध्य करना है।

वहीं ट्रंप के इस कदम से वीजा हासिल करने की कोशिशों में लगे लोगों की मुश्किलें बढ़ सकती है। अनुमान लगाया जा रहा है कि इस कदम से भारतीय आईटी कंपनियों के कारोबार काफी हद तक प्रभावित होगा।

ट्रंप ने ‘अमेरिका फर्स्ट’ की नीति को ध्यान में रखते हुए यह ऑर्डर साइन किया है। इस नए एग्जिक्यूटिव ऑर्डर के तहत वह एक ऐसी नीति चाहते है जिसके तहत सरकार उन उत्पादों को खरीदें जो अमेरिका में बने है।

इसे भी पढ़े-गिरफ्त में विश्व का सबसे खुंखार ISIS चीफ बगदादी...

वहीं ट्रंप के इस नए ऑर्डर के जरिए फेडरल डिपार्टमेंट्स को H-1B वीजा में बदलाव का मकसद भी मिल गया है, जिसके तहत सबसे ज्यादा सैलरी पाने वाले व्यक्ति या सबसे कुशल लोगों को अमेरिका आने का मौका मिलता है। अमेरिका में लॉटरी सिस्टम के जरिए हर 65,000 लोगों को H-1B वीजा दिए जाते हैं। इसके साथ ही 20,000 छात्रों को वीजा दिए जाते हैं।

बता दें, इस साल H-1B वीजा के लिए सिर्फ 1,99,000 आवेदन ही आए हैं, जबकि हर वर्ष यह आंकड़ा 2,36,000 था।    

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...
    loading...

    Similar Post You May Like


    Trends

    Special Story