टमाटर और प्याज की कीमतों पर पड़ी मौसम की मार, हुआ महंगा

नई दिल्ली।  आर्थिक सर्वेक्षण 2021-22 में कहा गया है कि मौसम की मार के कारण टमाटर और प्याज की कीमतों में वृद्धि में हुई है और नीति पर ध्यान देने की जरूरत है।कीमतों पर मौसम का प्रभाव मौसमी उत्पादन पैटर्न के परिणामस्वरूप पड़ता है।

केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा सोमवार को संसद में पेश किए गए सर्वेक्षण में कहा गया है, कमजोर मौसम के दौरान उत्पादन को प्रोत्साहित करने के लिए रणनीति तैयार की जानी चाहिए। टमाटर के अधिशेष उत्पादन के प्रसंस्करण में निवेश और प्याज के प्रसंस्करण और भंडारण के बुनियादी ढांचे को बढ़ावा दिया जाना चाहिए। उत्पादन की बर्बादी को कम करना और बेहतर आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन भी मांग को पूरा करने में मदद करेगा।

सर्वेक्षण में कहा गया है कि सरकार इन चुनौतियों से पार पाने के लिए विभिन्न उपायों को लागू कर रही है।

इसके अनुसार, बागवानी के एकीकृत विकास (एमआईडीएच) के मिशन में बागवानी के समग्र विकास की परिकल्पना की गई है और कहा गया है कि 25 टन क्षमता वाले प्याज भंडारण ढांचे के लिए 1.75 लाख रुपये प्रति यूनिट की कुल लागत का 50 प्रतिशत सहायता दी जाती है।

सरकार बफर के लिए किसानों से सीधे फार्म गेट कीमतों पर प्याज भी खरीदती है।

इसके अलावा, केंद्र ग्रामीण गोदामों के लिए कृषि विपणन अवसंरचना (एएमआई) जैसी अन्य योजनाएं चलाता है जो छोटे किसानों को अपनी उपज को लाभकारी कीमतों पर बेचने और संकट बिक्री से बचने और ऑपरेशन ग्रीन्स के एकीकृत विकास के लिए अपनी क्षमता बढ़ाने में सक्षम बनाता है।

कहा गया है, यह अधिशेष उत्पादक क्षेत्रों से उपभोग केंद्रों तक परिवहन और भंडारण के लिए 50 प्रतिशत सब्सिडी प्रदान करता है।


Exit mobile version