राज्य

श्रमिक जब मजबूत होगा तभी राष्ट्र मजबूत होगा: योगी आदित्यनाथ

भगवान राम के पद से सुशोभित पड़रौना की धरती के जिला मुख्यालय स्थित बुद्धा पार्क मे सोमवार को वृहद स्तर पर सामूहिक विवाह समारोह का आयोजन एक नया इतिहास रचा। परिणय की इस बेला में वर-वधू को आशीष देने आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सरकार श्रमिकों की बेटी का कन्यादान किया। सीएम योगी ने कहा कि कन्यादान करना मेरे लिए सबसे बड़ा पुण्य का काम है। उन्होंने सरकार की योजनाएं गिनाते हुए कहा कि 2503 जोड़ों का यह विवाह कार्यक्रम नया कीर्तिमान बना रहा है।
विवाह का दृष्य देख हर कोई अभिभूत नजर आया। उत्तर प्रदेश श्रम विभाग एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड द्वारा संयुक्त रूप से वृहद सामूहिक विवाह कार्यक्रम में 2503 जोड़ों की शादी हुई तो इन जोड़ों का कन्यादान करने व आशीर्वाद देने स्वयं सीएम सहित तमाम मंत्री और शासन-प्रशासन के अधिकारी मौजूद रहे। विवाह मंडप में आचार्य व उपाचार्यों ने मंगल गीतों व वेद मंत्रों के साथ 2365 जोड़ों के विवाह की रस्में पूरी कराई, तो काजी द्वारा 138 मुस्लिम जोड़ों का निकाह कराया गया। आयोजन में शाहबुढनपीर और बुद्ध की सांझी विरासत भी पुष्ट होती दिखी।
मुख्यमंत्री ने जब आशीर्वाद और कन्यादान की बात कही तो करीब तीस हजार से ऊपर लोगों से भरा विवाहोत्सव परिसर तालियों की गडगडाहट से गूंज उठा, जयश्रीराम उद्घोष हुए। उधर, सांस्कृतिक मंच पर लोक कलाकारों के विवाह गीत सहित गारी से पूरा माहौल मंगलमय हो उठा। मुख्यमंत्री ने कहा कि श्रमिकों के पसीने से राष्ट्र की आधारशिला रखी गई है। श्रमिकों जब मजबूत होगा तो राष्ट्र मजबूत होगा। उन्होंने कहा कि श्रमिक कन्याओं की शादी में प्रदेश सरकार स्वंय पहुंचकर कन्यादान कर रही है। इससे बड़ा पुण्य का कार्य क्या हो सकता है।
सही मायने में समाज के अंतिम पायदान पर बैठे श्रमिकों को लाभ मिल रहा है। कहा कि कोरोना के दौरान भी हमने निवासी-प्रवासी जो भी श्रमिक थे, हर श्रमिक को भरण-पोषण भत्ता दिया। 54 लाख श्रमिकों के खाते मे भत्ता गया, बाद में अन्य राज्यों ने भी इस योजना को अंगीकार किया।
सीएम योगी ने कहा कि हमारे गांव में एक कहावत है गांव की बेटी, सबकी बेटी.. इसी भावना के साथ हम सभी 2503 कन्याओं के एक साथ सामूहिक विवाह कार्यक्रम से जुड़ है और सामूहिकता का अहसास हो रहा है। सीएम ने कहा कि सामूहिक विवाह का आयोजन कर बाल विवाह, दहेज की प्रथा को तिलांजलि देकर समाज के प्रत्येक तबके की कन्याओं को सम्मान देने का काम हमारी सरकार कर रही है।
प्रदेश सरकार की लोककल्याणकारी योजनाओं से हर तबके के लोगों को जोड़ा गया है। 43 लाख परिवारों को प्रधानमंत्री आवास, 2.61 करोड़ शौचालय, 39 हजार ग्राम पंचायतों में सामुदायिक शौचालय का निर्माण कराया गया। जिन गांवों में बिजली नहीं थी वहां बिजली पहुंचाई गई। उन्होंने कहा कि श्रमिकों के सामाजिक सहायता के लिए 2 लाख का आर्थिक सहायता व 5 लाख का बीमा भी किया जाता है। ऐसे विवाहों के आयोजन से बाल विवाह एवं दहेज आदि जैसी कुप्रथाओं पर रोक लग रही है।
सीएम ने कहा कि 2017 के पहले स्थिति भयावह थी। दंगे होते थे, आराजकता का वातावरण था, महिला सुरक्षा गंभीर प्रश्न बन गया था। 2017 में जब हमारी सरकार आई तो हमने दंगा, भ्रष्टाचार, अराजकता मुक्त माहौल बनाने की प्रतिबद्धता से काम शुरू किया, आज प्रदेश में शांति का वातावरण है। मिशन शक्ति के तहत महिला सुरक्षा पर काम हुआ। पुलिस व शिक्षा भर्ती में बड़ी संख्या में महिलाओं को अवसर मिला। थाना व तहसीलों से लेकर गांव-गांव में मिशन शक्ति के तहत कार्यक्रम हो रहे हैं। सबका साथ, सबका विकास, सबका प्रयास और सबका विश्वास का जो मंत्र है वह चरितार्थ हो रहा है। मुख्यमंत्री द्वारा 11 शादी के जोड़ों को मंच पर बुलाकर आशीर्वाद दिया गया व उन्हें सम्मानित भी किया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button