आंध्र प्रदेश के 10 छात्र न्यूयॉर्क में यूनाइटेड नेशन्स एजुकेशन फोरम में लेंगे भाग

यूनाइटेड नेशंस एजुकेशन फोरम (यूएन फोरम) ने न्यूयॉर्क में आयोजित होने वाले विश्वस्तरीय शिक्षा सम्मेलन में आंध्र प्रदेश के दस सरकारी स्कूल के छात्रों को भाग लेने का सौभाग्य प्रदान किया है। इस अद्वितीय अवसर के साथ, आंध्र प्रदेश के युवा प्रतिनिधिमंडल ने विश्वभर में अपनी पहचान बनाने का एक और कदम उठाया है। इस यात्रा के दौरान, उन्हें विभिन्न संस्थानों और शिक्षा प्रेमियों से मिलकर विशिष्ट अनुभव प्राप्त होगा।

चयनित छात्रों का परिचय

इस यूएन फोरम में शामिल होने वाले छात्रों में से पी गायत्री और जी अंजना साई, सी राजेश्वरी, वी योगेश्वर, डी ज्योत्सना, ए ऋषिता रेड्डी, एम चंद्रलेखा, एम शिव लिंगम्मा, शेख अम्माजन, और एस मनस्विनी शामिल हैं। इन उत्कृष्ट छात्रों का चयन कठिन प्रक्रिया के माध्यम से किया गया और उन्होंने अपनी प्रतिष्ठा को ऊँचाइयों तक पहुँचाने का अवसर हासिल किया है।

अनुभवों का अद्वितीय संगम

यूएन फोरम के दौरान, छात्रों को महत्वपूर्ण शिक्षा संस्थानों का भ्रमण करने का और विभिन्न शैक्षिक थिंक टैंकों के साथ आलेख्य विचारवाद करने का मौका मिलेगा। इससे उन्हें नवाचारी डिजिटल शिक्षण प्रणालियों, डिजिटल साक्षरता कौशल, क्षमता निर्माण, कम्प्यूटेशनल सोच, और सार्वजनिक भाषण आदि के बारे में अद्वितीय ज्ञान प्राप्त होगा।

नवाचारी विचारों का परिचय

छात्र प्रतिनिधिमंडल को सिर्फ फोरम में ही नहीं, बल्कि उन्हें व्हाइट हाउस जाने का अवसर भी प्राप्त होगा। उनकी भागीदारी से यह आशा की जा रही है कि वे विश्वस्तरीय परिप्रेक्ष्य में अपने विचारों का प्रस्तुतीकरण करेंगे और उन्हें वैश्विक स्तर पर मान्यता प्राप्त होगी।

राज्य की प्रतिष्ठा का संवर्धन

यह महत्वपूर्ण मानदंड है कि आंध्र प्रदेश के छात्रों को यूएन फोरम में चयनित किया गया है। इससे न केवल उनका व्यक्तिगत विकास होगा, बल्कि राज्य की शिक्षा प्रणाली की प्रतिष्ठा भी बढ़ेगी।

समापन

इस यूएन फोरम में आंध्र प्रदेश के छात्रों का भागीदारी से उम्मीद है कि वे विश्वस्तरीय मंच पर अपने विचारों को प्रस्तुत करेंगे और उन्हें आने वाले दिनों में और भी अधिक सफलता प्राप्त होगी।

FAQs:

यूएन फोरम क्या है और इसका महत्व क्याहै?

यूएन फोरम विश्वस्तरीय शिक्षा सम्मेलन है जो न्यूयॉर्क में आयोजित होता है। इसमें विभिन्न शिक्षा संबंधित मुद्दों पर विचार विमर्श किया जाता है और युवा प्रतिनिधिमंडलों को भी शामिल किया जाता है।

आंध्र प्रदेश के छात्रों को किस प्रकार का अवसर मिलेगा?

ये छात्र विश्वभर में प्रसिद्ध शिक्षा संस्थानों का भ्रमण करेंगे और विभिन्न शैक्षिक विचारवादों में भाग लेंगे।

किस-किस प्रकार की यौगिकताएँ इन छात्रों को यूएन फोरम में शामिल होने के लिए चयनित की गई?

ये छात्र डिजिटल शिक्षण प्रणालियों, साक्षरता कौशल, क्षमता निर्माण, कम्प्यूटेशनल सोच, सार्वजनिक भाषण आदि के क्षेत्र में उन्नति प्राप्त करेंगे।

यह यूएन फोरम छात्रों के लिए क्यों महत्वपूर्ण है?

यह यूएन फोरम छात्रों को विश्वस्तरीय मंच पर उनके विचारों का प्रस्तुतीकरण करने का अवसर प्रदान करता है, जिससे वे विश्वभर में पहचान बना सकते हैं।

इस महत्वपूर्ण संयोजन में आंध्र प्रदेश की प्रतिष्ठा कैसे बढ़ेगी?

आंध्र प्रदेश के छात्रों का यूएन फोरम में चयन होना राज्य की शिक्षा प्रणाली की प्रतिष्ठा को बढ़ावा देगा और उन्हें आगामी कैरियर में भी सफलता प्राप्त होने का मौका देगा।

Read More: नीट एसएस 2023 की पंजीकरण प्रक्रिया का आज अंतिम दिन

Exit mobile version