अभी भी मेरी जैसी ही चाहिए

abhi-bh-meri-jaisi-hi-chaiye

हालांकि मां ने कभी तंत्र विद्या नहीं सीखी है।
लेकिन…
जिस लड़की पर उनका बेटा फिदा होता है।
मां एक नजर में बता देती है कि…
वो चुड़ैल है…!!!
—————————————————–
हमारी शक्सियत का अंदाज़ा तुम क्या लगाओगे गालिब,
हम तो कब्रिस्तान से भी गुज़रते है तो मुर्दे उठ कर कहते है।
:
भाई लगी कही नौकरी…..????
—————————————————–
एक अक्षर गलत होने की वजह से एक किताब की 10 लाख कॉपियां
दो दिन में ही बिक गईं।
:
दरअसल, ये गलती उस किताब के टाइटल में हो गई थी।
;
किताब का नाम था – ‘एक आइडिया जो आपकी लाइफ बदल दे,
और गलती से हो गया – ‘एक आइडिया जो आपकी वाइफ बदल दे।
—————————————————–
पति और पत्नी का ज़ोरदार झगड़ा होता है,
पति गुस्से से- तेरी जैसी 50 मिलेंगी,,
पत्नी हंस के- अभी भी मेरी जैसी ही चाहिए।
—————————————————–
उसने मुझसे पूछा चाहोगे मुझे कब तक,
मैंने भी मुस्कुराके कह दिया,,
मेरी बीवी को न पता चले तब तक।
—————————————————–
टीचर : मैं दो वाक्य दूंगा उसमें आपको अंतर बताना है,
पहला वाक्य- उसने बर्तन धोए।
दूसरा वाक्य- उसे बर्तन धोने पड़े।
पप्पू : पहले वाक्य में कर्ता अविवाहित है।
और दूसरे वाक्य में कर्ता विवाहित है।
—————————————————–

Exit mobile version