दुनियाविशेष खबर

पाकिस्‍तान पर हमले जारी रहेंगे

टीटीपी सरगना ने ऐलान किया है कि पाकिस्‍तान पर तब तक हमले जारी रहेंगे जब तक कि देश में शरिया कानून लागू नहीं हो जाता है।चित्राल में टीटीपी के भीषण हमले से पाकिस्‍तानी सेना और सरकार हैरान है। चित्राल वही इलाका है जहां अलकायदा सरगना ओसामा बिन लादेन छुपा था। यह वही तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्‍तान है जिसे पाकिस्तान ने बनाया भी और पाला भी। पाकिस्‍तानी मीडिया के मुताबिक टीटीपी सरगना नूर वली मेहसूद की योजना पीओके गिलगित तक हमला करने की थी, इसी टीटीपी ने पाकिस्‍तान के खैबर पख्‍तूनख्‍वा प्रांत के चित्राल जिले पर बहुत बड़े और ज्यादा हमले किये है जिसमे पाकिस्तान के चार जवान भी मारे गए हैं  सुचना पाकिस्तान ने दी।

तहरीक-ए-तालिबान आतंकियों ने बहुत बड़ा प्‍लान बनाया था। इन टीटीपी आतंकियों ने अपने आका तालिबान की तर्ज पर पाकिस्‍तानी इलाकों में हमला किया था। पाकिस्‍तान का चित्राल जिला अफगानिस्‍तान के कुनार, नूरीस्‍तान और बदख्‍शान इलाके से बिल्‍कुल सटा हुआ है। सैकड़ों की तादाद में टीटीपी आतंकियों के जमा होने की सूचना पाकिस्‍तानी सेना को मिल गई थी इसलिए पाकिस्तान को नुक्सान कम हुआ। टीटीपी आतंकी ठीक उसी तरह से हमले कर रहे हैं जिस तरह अफगानिस्‍तान में वर्ष 2018 में हमले किये थे अफगानिस्‍तान में सेना को एक जगह फसा कर दूसरी जगह जोरदार हमला किया जाता था वैसा ही अब पाकिस्तान में हो रहा हैं।

पाकिस्‍तानी अखबार एक्‍सप्रेस ट्रिब्‍यून की रिपोर्ट के मुताबिक टीटीपी ने इस बार ऐसी जगह पर हमले की योजना बनाई जहां पाकिस्‍तान ने उम्‍मीद भी नहीं की थी। इस हमले की अहम‍ियत का अंजादा इस बात से लगाया जा सकता है कि खुद टीटीपी का सरगना नूर वली पाकिस्‍तानी सीमा के दूसरी ओर से इसका नेतृत्‍व कर रहा था।

अब चित्राल हमले से तालिबान और पाकिस्‍तानी सेना के बीच तनाव और भड़क सकता है। यही नहीं जिस दिन टीटीपी ने हमला किया था, ठीक उसी दिन तालिबान ने तोर्खम सीमा पर एक और चौकी बनाने की कोशिश की। पाकिस्‍तानी सेना ने जब इसका विरोध किया तो दोनों के बीच जमकर गोलीबारी हुई थी। तोर्खम सीमा दो दिन से बंद है।

READ MORE… भारत नाम, एक वैदिक नाम है और इंडिया हमारा नाम नहीं था?

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button