Appkikhabar Banner29042021

पंजाब में बड़े पैमाने पर वन संवर्धन शुरू करने के लिए 222.15 करोड़ रु आवंटित

Afforestation Drive

पंजाब सरकार ने राज्य में 222.15 करोड़ रुपये की लागत से लगभग 692.645 हेक्टेयर भूमि पर 53 लाख पौधे लगाकर बड़े पैमाने पर वनीकरण करने की योजना बनाई है। इस योजना से राजमार्गों के आसपास हरित पट्टी को बढ़ने में मदद मिलेगी।  इसके अलावा चालू वित्त वर्ष में बीर मोती बाग वन्य जीव अभ्यारण में सुधार और सिसवन आरक्षित क्षेत्र का विकास होगा। 

 

इस योजना को मंगलवार को राज्य के मुख्य सचिव ने मंजूरी दे दी है। इसे वनों और वन्य जीव संरक्षण विभाग के 2021-22 के वार्षिक योजना संचालन के तहत निष्पादित किया जाएगा। धन आवंटन के लिए अनुमोदित योजना को केंद्र सरकार के समक्ष रखा जाएगा।

 

“मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के निर्देशों पर कार्रवाई करते हुए समिति ने कंडी क्षेत्रों के वन क्षेत्रों के पास के गांवों के लिए 408 लाख रुपये की लागत से लकड़ी की बचत करने वाले उपकरणों की खरीद को भी मंजूरी दी है।

 

इसके अलावा, राज्य सरकार की विज्ञप्ति के अनुसार, पटियाला जिले में 210 लाख रुपये की लागत से पूरी तरह से स्वचालित पशु तालाब का निर्माण किया जाएगा, साथ ही 392.95 लाख रुपये की लागत पर किसानों के लिए "बांस" का प्रदर्शन प्लाट भी बनाया जाएगा।

 

राज्य के मुख्य सचिव विनी महाजन ने कहा, "307 लाख रुपये के खर्च पर डेरा बाबा नानक, मंडी गोबिंदगढ़ और लुधियाना जैसे नौ प्रदूषित इलाकों में वायु प्रदूषण के प्रभाव को कम करने के लिए वन संवर्धन अभियान शुरू किया जाएगा।

 

राज्य के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी (वन ) अनिरुद्ध तिवारी ने बताया कि "लगभग 9,970.25 लाख रुपये की लागत से 5,401 हेक्टेयर क्षेत्र पर वन संवर्धन किया जाएगा। " पिछले पांच वर्षों में, वन और वन्य जीव संरक्षण विभाग ने राज्य में हरियाली और जैव विविधता प्रबंधन प्रयासों में योगदान दिया है।" तिवारी ने कहा, "कंडी क्षेत्रों के वन फ्रिंज गांवों में 7,481 गैस के कनेक्शन, 182 सामुदायिक सौर कुकर और 788 सौर लाइट गांव की सीमाओं पर पर प्रदान की गई, जिससे जंगलों पर जैविक दबाव को कम करने में बेहद मदद मिली है।

Share this story