हिमंत बिस्वा सरमा का दावा- बंगाल में हिंसा की वजह से भागकर असम पहुंचे 300-400 बीजेपी कार्यकर्ता

Medhajnews

असम के मंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने मंगलवार को दावा किया कि पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद हुई हिंसा के बीच वहां से करीब 300-400 बीजेपी कार्यकर्ता और उनके परिवार के सदस्य भागकर पड़ोसी राज्य आ गए हैं।  उन्होंने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से लोकतंत्र को बदरूप होने से बचाने की अपील भी की।

असम के स्वास्थ्य एवं वित्त मंत्री ने ट्वीट किया, 'एक दुखद घटनाक्रम में बंगाल भाजपा के 300-400 कार्यकर्ता और उनके परिवार के सदस्य घोर अत्याचार एवं हिंसा की मार के बाद असम के धुबरी पहुंच गए।' उन्होंने कहा, 'हम (उन्हें) आश्रय और भोजन दे रहे हैं। ममता दीदी को लोकतंत्र को बदरूप होने से बचाना चाहिए। बंगाल बेहतर का हकदार है।'
पश्चिम बंगाल सोमवार को व्यापक हिंसा की गिरफ्त में रहा जिसमें कथित रूप से बीजेपी के कई कार्यकर्ता हिंसक झड़प में मारे गए और कई घायल हो गए। इसके साथ ही दुकानों में लूट की वारदातें भी सामने आईं। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने विपक्षी कार्यकर्ताओं पर हमले की घटनाओं पर राज्य सरकार से तथ्यात्मक रिपोर्ट मांगी है।
सोमवार को सरमा ने कहा था कि असम में लगातार दूसरी बार भाजपा के विधानसभा चुनाव जीतने के बाद किसी भी कांग्रेस कार्यकर्ता पर हमला तो भूल जाइए, उनका मजाक भी नहीं उड़ाया गया। उन्होंने ट्वीट किया था, 'बहुत दूर नहीं, बंगाल में ही दीदी के दादाओं ने भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले और उनकी हत्याएं कर आतंक का राज कायम कर दिया है। क्या 'उदारवादी' यह फर्क देख सकते हैं?'
बीजेपी ने हिंसा के लिए टीएमसी को बताया जिम्मेदार
भाजपा ने हिंसा के लिए तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) को जिम्मेदार ठहराया है और कहा है कि तृणमूल कांग्रेस प्रमुख एवं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के राज्य विधानसभा चुनावों में भारी जीत हासिल करने के बाद भाजपा के कार्यकर्ताओं एवं पार्टी से सहानुभूति रखने वालों को निशाना बनाया जा रहा है। मंगलवार को बीजेपी चीफ जेपी नड्डा दो दिवसीय दौरे पर पश्चिम बंगाल पहुंचे और उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी के कार्यकर्ता हिंसक हमलों का सामना कर रहे हैं।

Share this story