भारतविशेष खबर

ADR की रिपोर्ट के अनुसार अरबपति सांसदों की भरमार

राज्यसभा, भारतीय संसद का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है जो हमारे देश के संविधानिक प्रक्रियाओं में भाग लेता है। इसके सदस्यों की विविधता के बावजूद, हाल के एक रिपोर्ट ने दिखाया है कि इसमें अरबपति सांसदों की भरमार है। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) ने अपनी नवीनतम रिपोर्ट में बताया है कि राज्यसभा के 225 सदस्यों में 27 यानी 12% सदस्य अरबपति हैं। इस रिपोर्ट के आधार पर हम एक नजर डालेंगे कि इस आंकड़े के पीछे क्या कारण हैं और इसके महत्व को समझेंगे।

पहली बात यह है कि इस लिस्ट में अरबपति सांसदों की सबसे ज्यादा संख्या भाजपा के सदस्यों की है। 225 सदस्यों में BJP के 85 सदस्य हैं, जिनमें 6 यानी 7% सांसद अरबपति हैं। इसका मतलब है कि भाजपा एक स्वामित्व और धन के मामले में कुशल है, और उनके सदस्यों के पास अधिक प्रॉपर्टी है।

कांग्रेस में भी है अरबपति सांसदों की तादाद

कांग्रेस के 30 सदस्यों में से 4 यानी 13% सदस्य अरबपति हैं। यह भी एक महत्वपूर्ण तथ्य है क्योंकि कांग्रेस एक प्रमुख राजनीतिक दल है और उनके सदस्यों के पास भी संपत्ति की अधिकतम रकम है।

राज्यवार आंकड़ों का अनुसरण

अगर हम राज्यवार आंकड़ों का अनुसरण करें, तो सबसे ज्यादा अरबपति सांसद आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में हैं, जहां 45% और 43% सदस्य अरबपति हैं, उसके बाद के राज्य हैं महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश ।

सांसदों के खिलाफ क्रिमिनल केस

इन 225 सांसदों में से 75 के खिलाफ क्रिमिनल केस हैं। 41 सांसदों यानी करीब 18% के खिलाफ गंभीर धाराओं में केस दर्ज हैं। इसमें दो सांसदों पर हत्या (IPC की धारा 302) का केस और 4 के खिलाफ महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामले भी शामिल हैं।

सांसदों की प्रॉपर्टी

राज्यसभा के मौजूदा सांसदों की औसतन प्रॉपर्टी 80.93 करोड़ रुपए है। जब हम इसे दलों के हिसाब से देखते हैं, तो BJP के औसतन सांसदों की प्रॉपर्टी 30.34 करोड़ है, कांग्रेस के 30 सांसदों की प्रॉपर्टी 51.65 करोड़, तृणमूल कांग्रेस के 13 सदस्यों की प्रॉपर्टी 3.55 करोड़, YSR कांग्रेस के 9 सदस्यों की प्रॉपर्टी 395.68 करोड़, और भारत राष्ट्र समिति के 7 सांसदों की प्रॉपर्टी 799.46 करोड़ रुपए है।

तेलंगाना के 7 सदस्यों की प्रॉपर्टी 5,596 करोड़ रुपए है, जो इस राज्य के सांसदों की अमान्यता को दिखाता है।

उम्मीदवारों के हलफनामों के आधार पर किया गया एनालिसिस

ADR ने इस रिपोर्ट के लिए नेशनल इलेक्शन वॉच (NEW) के साथ मिलकर कुल 233 राज्यसभा सांसदों में से 225 के क्रिमिनल और फाइनेशियल स्थिति का एनालिसिस किया है। इस आंकड़े के पीछे उम्मीदवारों के हलफनामों का आधार है, जिससे यह साबित होता है कि राज्यसभा सदस्यों की धन और अपराधिक स्थिति के संबंध में एक महत्वपूर्ण एनालिसिस होने का प्रयास किया गया है।

इस रिपोर्ट से साफ होता है कि भारतीय राज्यसभा के सदस्यों में अरबपति सांसदों की संख्या बढ़ रही है। यह समझने के लिए महत्वपूर्ण है कि यह क्यों हो रहा है और क्या कदम उठाए जा सकते हैं ताकि समाज के हर वर्ग के लोग बेहतर और समान अवसरों का उपयोग कर सकें।

Read more….वायनाड से सांसद राहुल गांधी उत्तर प्रदेश के अमेठी से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे-मेधज़ न्यूज़

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button