EPFO : कोरोना काल में नौकरी गंवाने वालों के लिए दिवाली गिफ्ट

Medhaj News 14 Nov 20 , 14:28:25 Business & Economy Viewed : 979 Times
rupee.png

कोरोना काल में जिनकी नौकरी चली गई थी, उनके लिए आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना (Aatma Nirbhar Bharat Rozgar Yojana) का ऐलान किया गया है। आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का मकसद संगठित क्षेत्र में रोजगार देने की कोशिश है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने गुरुवार को आत्मनिर्भर पैकेज 3.0 की घोषणा करते हुए कहा कि पिछले वर्ष मार्च में प्रधानमंत्री रोजगार प्रोत्साहन योजना शुरू की गई थी और अब यह नई योजना शुरू की गई है। इसका लाभ उनको मिलेगा जिनकी नौकरी कोरोना काल में चली गयी है। यह योजना कर्मचारी भविष्य निधि संगठन यानी EPFO (Employees Provident Fund Organisation) में रजिस्टर्ड लोगों को मिलेगा। ये योजना 1 अक्टूबर 2020 से लागू होगी और 30 जून 2021 तक चलेगी। वित्त मंत्री ने कहा कि इसके तहत ऐसे लोगों को लाभ होगा, जिनकी सैलरी 15 हजार रुपये मासिक से कम है और वह EPFO में रजिस्टर्ड है। जिनकी नौकरी 1 मार्च से 30 सितंबर के बीच गई होगी और 1 अक्टूबर या उसके बाद रोजगार मिला हो तो उन्हें लाभ मिलेगा। इसके तहत एक हजार कम कर्मचारी वाले संगठनों में कर्मचारी और नियोक्ता दोनों की EPFO की 24 फीसदी हिस्सेदारी सरकार देगी जो दो वर्ष के लिए होगी। एक हजार से अधिक कर्मचारी वाले संगठनों में काम करने वालों के EPFO में सरकार कर्मचारी के अंश के 12 फीसदी का योगदान करेगी |

निर्मला सीतारमण ने इसके बारे में डिटेल जानकारी देते हुए कहा कि सब्सिडी के तहत दो साल के लिए सेवानिवृत्ति निधि में कर्मचारियों के साथ ही नियोक्ताओं के योगदान को भी शामिल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों का योगदान (सैलरी का 12 प्रतिशत) और नियोक्ता का योगदान (सैलरी का 12 प्रतिशत), इस तरह कुल वेतन का 24 प्रतिशत हिस्सा अगले दो सालों के लिए नई भर्तियां करने वाले प्रतिष्ठानों (कंपनियों) को दिया जाएगा। आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के तहत कर्मचारी भविष्य निधि संगठन में रजिस्टर्ड प्रतिष्ठानों को नए कर्मचारियों की भर्ती पर यह सब्सिडी मिलेगी। वित्त मंत्री ने बताया कि इस योजना के तहत 15,000 रुपये से कम मासिक वेतन पाने वाले नए कर्मचारी को गिना जाएगा। उन्होंने बताया कि इसमें 15,000 से कम सैलरी पाने वाले ऐसे कर्मचारी भी शामिल होंगे, जिन्हें कोरोना महामारी के दौरान नौकरी से निकाल दिया गया था और वे एक अक्टूबर 2020 को या उसके बाद दोबारा जुड़े हैं। इस योजना का लाभ लेने के लिए अधिकतम 50 कर्मचारियों वाले प्रतिष्ठानों को कम से कम दो नई कर्मचारियों को भर्ती करना होगा, जबकि जिन प्रतिष्ठानों में 50 से अधिक कर्मचारी हैं, उन्हें कम से कम पांच नई भर्ती करनी होगी।


    5
    0

    Comments

    • How can we join it....

      Commented by :Anubha Mishra
      16-11-2020 09:34:36

    • Two Good Sir And Mam

      Commented by :Vidya Nand Paswan
      15-11-2020 18:36:21

    • Is trah to labour code bill or wages code bill agle do saal tak laggu nahi hona hai.

      Commented by :Sunil Kumar
      15-11-2020 13:05:28

    • Nice

      Commented by :Kamlesh Singh
      14-11-2020 21:18:18

    • great news

      Commented by :Vijay
      14-11-2020 17:57:55

    • Good News

      Commented by :Ravishankar Srivastava
      14-11-2020 14:48:19

    • Load More

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends

    Special Story