इस फैसले के बाद अमेरिका और चीन के बीच 'दुश्मनी' और बढ़ेगी

Medhaj news 22 Oct 20 , 08:00:44 Business & Economy Viewed : 1982 Times
donald_trump.png

चीन (China) के साथ जारी तनाव के बीच अमेरिकी प्रशासन ने ताइवान को 1 अरब डॉलर यानि करीब 7300 करोड़ रुपये के घातक हथियारों की बिक्री (US-Taiwan Weaponry Deal) की मंजूरी दे दी है | अमेरिका के इस फैसले से चीन नाराज हो सकता है, जो पहले ही व्यापार, तिब्बत और हॉन्गकॉन्ग जैसे मुद्दों पर उग्र है | इस डील के जरिए अमेरिका, ताइवान को चीन के खिलाफ मजबूत करना चाहता है | इस डील के तहत अमेरिका सतह पर मार करने वाली 135 मिसाइल और उपकरण ताइवान को देगा | ये मिसाइलें बोइंग (Boeing) द्वारा बनाई गई हैं | इसके साथ ही अमेरिका रक्षा क्षमताओं में सुधार के लिए ताइवान की सेना को प्रशिक्षण भी देगा, जिस पर विदेश मंत्रालय ने मुहर लगा दी है | बयान में कहा गया कि यह पैकेज एक बिलियन डॉलर से अधिक का है | 

एक बयान में कहा गया - इस प्रस्तावित डील से ताइवान (Taiwan) को सैन्य संतुलन और आर्थिक प्रगति के साथ-साथ अपनी सुरक्षा को बेहतर बनाने और राजनीतिक स्थिरता बनाए रखने में मदद मिलेगी | ताइवान इस डील से सतह पर होने वाले हमलों का मुकाबला करने या प्रतिरोध करने में सक्षम होगा | ट्रंप प्रशासन ने ताइवान को लेकर इस साल बेहद आक्रामक रुख अख्तियार किया है और इन हथियारों की डील के बाद चीन के साथ उसके रिश्ते (US-China Relation) और ज्यादा खराब हो सकते हैं | क्योंकि चीन ने पहले भी ताइवान द्वारा अमेरिकी हथियारों की खरीद पर उग्र प्रतिक्रिया दी थी | 


    7
    0

    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends

    Special Story