चीन ने फिर दिखाया अपना असली रंग, UNSC में आतंकी अब्दुल रउफ के बचाव में किया वीटो

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में चीन का ‘आतंक प्रेम’ एक बार फिर से दिखा है यह तब देखने को मिला जब भारत ने UNSC में आतंकी अब्दुल रउफ अजहर को बैन करने की मांग उठाते हुए में प्रस्ताव पेश किया लेकिन चीन ने वीटो का प्रयोग करते हुए इसे रोक दिया।

कौन है अब्दुल रउफ अजहर
आतंकी अब्दुल रउफ अजहर आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर का भाई है तथा यह भारत के खिलाफ कई आतंकी गतिविधियों में शामिल रहा है सन 1999 में भारतीय विमान को कंधार में अपहरण करने के कांड में अब्दुल रउफ अजहर ही सूत्रधार था जिसके कारण भारत को आतंकी मसूद अजहर को छोड़ना पड़ा था, इसके अलावा भारत की संसद व पठानकोट हमले में भी यह आतंकी शामिल रहा है।

आतंकी अब्दुल रउफ अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करना चाहता है भारत
भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की 1267 ISIL और अलकायदा प्रतिबंधित सूची में आतंकी अब्दुल रउफ अजहर को शामिल करना चाहता है लेकिन चीन के पाकिस्तान तथा आतंक प्रेम के चलते वह वीटो लगाकर इसे रोक देता है।

UNSC में चीन को छोड़कर बाकी सभी सदस्यों ने दिया समर्थन
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत के प्रस्ताव को चीन ने यह कहते हुए वीटो लगा दिया कि हमें इस मामले को समझने के लिए समय की जरूरत है वही संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के 4 स्थाई तथा सभी 10 अस्थाई सदस्यों ने समर्थन किया है, चीन इससे पहले कई बार आतंकवादियों को वैश्विक आतंकी घोषित करने में वीटो कर चुका है।

Exit mobile version