शिक्षापंजाब

सीएम ने की सरकारी स्कूलों में जल्द ही एआई पाठ्यक्रम शुरू करने की घोषणा

मुख्यमंत्री भगवंत मान ने घोषणा की कि पंजाब के सरकारी स्कूलों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) का पाठ्यक्रम तेजी से शुरू किया जाएगा। इसके तहत, एक लाख छात्रों को और 10,000 शिक्षकों को भी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) का प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके साथ ही, स्कूलों में इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए विशेष बजट आलोकित किया जाएगा।

पंजाब के मुख्यमंत्री, भगवंत मान ने बुधवार को सरकारी स्कूलों के छात्रों के लिए एक महत्वपूर्ण घोषणा की है। उन्होंने बताया कि राज्य भर के सभी सरकारी स्कूलों में जल्द ही आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) का पाठ्यक्रम शुरू किया जाएगा। इस पहल के तहत, एक लाख छात्रों को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) का प्रशिक्षण दिया जाएगा और साथ ही 10,000 शिक्षकों को भी इस क्षेत्र में प्रशिक्षित किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने यह घोषणा करते हुए बताया कि यह उपाय छात्रों के लिए नई दिशाएँ खोलेगा और उन्हें तैयार करेगा उनके भविष्य के लिए। इस बड़े कदम के अंतर्गत, सरकार स्कूलों में विभिन्न क्षेत्रों में बुद्धिमत्ता के विकास को प्राथमिकता देगी।

नई सुविधाएँ और विन्यास

उपयुक्त इंफ्रास्ट्रक्चर की व्यवस्था करने के लिए सरकार ने 7,000 से अधिक स्कूलों में चारदीवारी के निर्माण पर 358 करोड़ रुपये निर्धारित किए हैं। इसके साथ ही, स्कूलों में उपयुक्त बेंच और फर्नीचर की व्यवस्था के लिए 25 करोड़ रुपये, वॉशरूम के लिए 60 करोड़ रुपये और 10,000 नई कक्षाओं के लिए 800 करोड़ रुपये अनुमानित किए जा रहे हैं।

शिक्षा क्रांति का संकल्प

मान ने शिक्षा को एक नई क्रांति के रूप में देखा। उन्होंने कहा कि अब पंजाब न केवल हरित क्रांति और श्वेत क्रांति के लिए जाना जाएगा, बल्कि शिक्षा क्रांति के रूप में भी प्रशंसा पाएगा।

शिक्षकों की स्थिति

प्रत्येक स्कूल में एक “कैंपस मैनेजर” की नियुक्ति की जाएगी जो शिक्षकों के और छात्रों के बीच संबंधों को सुधारेगा। इसके साथ ही, उन्होंने शिक्षकों की विशेषज्ञता को बढ़ाने के लिए उन्हें पेशेवर प्रशिक्षण के लिए विदेश और देश के भीतर भेजा जा रहा है। छात्रों को अपना ज्ञान बढ़ाने के लिए वे भी इसरो और अन्य प्रतिष्ठित संस्थानों में भेजे जा रहे हैं।

नौकरियों का उत्थान

मान ने बताया कि पिछले 18 महीनों में पंजाब सरकार ने युवाओं को 36,097 से अधिक नौकरियां प्रदान की हैं। ये नौकरियां योग्यता और पारदर्शिता के आधार पर दी गई हैं और सरकार ने भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई है।

निष्कर्ष:

भगवंत मान की घोषणा से पंजाब के सरकारी स्कूलों में शिक्षा के क्षेत्र में एक नई उम्मीद की किरण जगी है। इस पहल के माध्यम से, छात्रों को नई दिशाएँ मिलेंगी और उनके भविष्य को और भी उज्ज्वल बनाने के लिए कदम उठाया जा रहा है।

FAQs:

यह एआई पाठ्यक्रम क्या है?

एआई पाठ्यक्रम एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) का प्रशिक्षण है जो सरकारी स्कूलों के छात्रों और शिक्षकों को दिया जाएगा। इसका उद्देश्य उनकी बुद्धिमत्ता और नौकरी में सफलता में सहायता करना है।

कितने छात्रों और शिक्षकों को इस पाठ्यक्रम का लाभ मिलेगा?

इस पहल के अंतर्गत, एक लाख छात्रों को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) का प्रशिक्षण दिया जाएगा और 10,000 शिक्षकों को भी इस क्षेत्र में प्रशिक्षित किया जाएगा।

इस पाठ्यक्रम के तहत कौन-कौन सी विशेषताएँ शामिल हैं?

स्कूलों में उपयुक्त इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए विशेष बजट आलोकित किया जाएगा। चारदीवारी के निर्माण पर 358 करोड़ रुपये निर्धारित किए गए हैं और विभिन्न सुविधाओं के लिए अन्य विशेष बजट भी आलोकित किया गया है।

मुख्यमंत्री ने शिक्षा को कैसे देखा है?

मुख्यमंत्री ने शिक्षा को एक नई क्रांति के रूप में देखा है और इसके माध्यम से छात्रों के भविष्य को और भी उज्ज्वल बनाने का उद्देश्य रखा है।

Read More: यूजीसी 15 लाख उच्च शिक्षा शिक्षकों को प्रशिक्षण देगा

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button