व्यापार और अर्थव्यवस्था

भारत के स्वच्छ ऊर्जा परिवर्तन को आगे बढ़ाने के लिए BHEL और GE के बीच सहयोग

भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (बीएचईएल) और जनरल इलेक्ट्रिक (जीई) ने अपनी दीर्घकालिक साझेदारी में एक नए अध्याय की शुरुआत करते हुए एक विस्तारित गैस टरबाइन प्रौद्योगिकी समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। यह समझौता बीएचईएल को हाइड्रोजन, मेथनॉल और सिनगैस के साथ-साथ हाइब्रिड कॉन्फ़िगरेशन सहित विभिन्न ईंधन मिश्रणों का उपयोग करके गैस टरबाइन के निर्माण और आपूर्ति के लिए उन्नत अधिकार प्रदान करता है। इस सहयोग से भारत के ऊर्जा परिवर्तन में महत्वपूर्ण योगदान देने और इसके महत्वाकांक्षी शुद्ध-शून्य उत्सर्जन लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद मिलने की उम्मीद है।

समझौते के तहत बीएचईएल के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक डॉ. एस.के. जैन और जीई के गैस पावर सिस्टम्स के अध्यक्ष और सीईओ स्कॉट स्ट्राज़िक ने भारत में अमेरिकी राजदूत तरणजीत सिंह संधू की उपस्थिति में समझौते पर हस्ताक्षर किए। यह रणनीतिक कदम न केवल दोनों कंपनियों के बीच साझेदारी को मजबूत करता है बल्कि भारत की मेक इन इंडिया और आत्मनिर्भर भारत पहल के साथ भी संरेखित होता है।

डॉ. जैन ने समझौते के बारे में अपना उत्साह व्यक्त किया और भारतीय अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने और रोजगार के अवसर पैदा करने की इसकी क्षमता पर प्रकाश डाला। बीएचईएल की हैदराबाद सुविधा में अत्याधुनिक गैस टर्बाइन और उनके पुर्जों का निर्माण इस सहयोग का एक महत्वपूर्ण पहलू होगा।

श्री स्ट्राज़िक ने डॉ. जैन की भावनाओं को दोहराते हुए भारत की स्वच्छ ऊर्जा की बढ़ती मांग को पूरा करने के महत्व पर जोर दिया। उन्होंने भारत को उसके शुद्ध-शून्य उत्सर्जन लक्ष्य को प्राप्त करने में समर्थन देने के लिए बीएचईएल के साथ मिलकर काम करने की जीई की प्रतिबद्धता का वादा किया।

यह समझौता, जो 10 वर्षों तक फैला है, बीएचईएल के लिए उन्नत गैस टरबाइन प्रौद्योगिकी तक पहुंचने के नए रास्ते खोलता है। इस साझेदारी से न केवल इसमें शामिल कंपनियों को लाभ होता है बल्कि भारत पर भी इसका व्यापक प्रभाव पड़ता है। देश के ऊर्जा परिवर्तन को सुविधाजनक बनाकर, यह भारत को स्वच्छ और अधिक टिकाऊ ऊर्जा भविष्य की ओर बढ़ने में मदद करेगा।

कुल मिलाकर, बीएचईएल और जीई के बीच विस्तारित गैस टरबाइन प्रौद्योगिकी समझौता उनके सहयोग में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। अपनी विशेषज्ञता और संसाधनों का लाभ उठाकर, दोनों कंपनियों का लक्ष्य भारत के शुद्ध-शून्य उत्सर्जन लक्ष्यों को प्राप्त करने की यात्रा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाना है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button