भारत

एमबीबीएस में एडमिशन लेने के लिए टॉप मेडिकल कॉलेजों में रिलीज होगी कटऑफ

नई दिल्ली| मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन लेने के लिए जरुरी नीट 2021 परीक्षा का रिजल्ट जारी हो चुका है। इस बार एडमिशन के लिए कटऑफ लिस्ट जारी की जाएगी। नीट परीक्षा में कुल 15,44,275 छात्र शामिल हुए थे, जिनमें से 8,70,074 छात्रों ने यह परीक्षा क्वालिफाई की है।

अगली प्रक्रिया में देश के सभी केंद्रीय एवं राज्य स्तरीय मेडिकल कॉलेजों द्वारा की कट-ऑफ लिस्ट रिलीज की जाएगी। इस कट-ऑफ के आधार पर एडमिशन प्रक्रिया शुरू होगी। इसके लिए दो तरह से काउंसलिंग की जाएगी। एक काउंसलिंग 15 फीसदी ऑल इंडिया कोटा के आधार पर और दूसरी काउंसलिंग राज्य अपने स्तर पर मेरिट लिस्ट के जरिए करेंगे।

नीट परीक्षा में उत्तीर्ण होने वाले छात्रों को देश के विभिन्न प्रतिष्ठित मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस, बीएएमएस, बीएसएमएस, बीयूएमएस और बीएचएमएस समेत विभिन्न कोर्सेज में एडमिशन मिल सकेगा।

राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग अधिनियम, 2019 में संशोधन के उपरांत देशभर में स्थित 13 एम्स और पुडुचेरी के जवाहरलाल पीजी चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान के एमबीबीएस पाठ्यक्रम की प्रवेश परीक्षाएं भी नीट के जरिए से ली गई हैं।

हैदराबाद के मृणाल कुट्टेरी, दिल्ली के तन्मय गुप्ता और मुंबई से कार्तिका ने नीट परीक्षा में टॉप किया है। इस परीक्षा में तीनों छात्रों ने 720 में से 720 अंक हासिल किए हैं। रिजल्ट आने के बाद टॉपर मृणाल ने कहा कि अपने स्कूल के शुरूआती दिनों में वह इंजीनियर बनना चाहते थे। फिर इसके बाद दोस्तों के साथ वीडियो गेम खेलने लगे और वीडियो गेम खेलते हुए ही उन्होंने भारतीय सेना में भर्ती होने का इरादा किया। मृणाल ने बताया कि वह सेना में डॉक्टर बनना चाहते थे लेकिन धीरे धीरे उनका ध्यान डॉक्टर बनने पर केंद्रित होता गया। उन्होंने बताया कि अंत में उनका उद्देश्य केवल और केवल डॉक्टर बनना रह गया था।

मृणाल बताते हैं कि पढ़ाई के लिए उनका कोई निश्चित टाइम टेबल नहीं था। वह बहुत लंबे लंबे सत्रों में भी पढ़ाई नहीं करते थे। कभी 45 मिनट तो कभी एक घंटा पढ़ाई कर कर तो ब्रेक लेते थे।

मृणाल ने नीट एवं अन्य परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों को सलाह देते हुए कहा कि परीक्षा में अव्वल आने का कोई खास नुस्खा नहीं है। उन्होंने कहा कि एक चीज मैंने महसूस की है कि आपको इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि कौन सा तरीका आपके मुताबिक काम कर रहा है। पढ़ने और सीखने के नए-नए तरीकों को एक्सप्लोर करते रहना चाहिए।

वहीं दिल्ली के तन्मय गुप्ता ने बताया कि दसवीं कक्षा पास करने के बाद बच्चों के मन में यह क्लियर हो जाता है कि उन्हें मेडिकल या नॉन मेडिकल किस प्रकार के कोर्स में दाखिला लेना है। इसी तरह मेरे दिमाग में भी यह बात स्पष्ट थी कि मुझे मेडिकल में जाना है।

तन्मय बताते हैं कि यह 2 वर्ष की लंबी पढ़ाई है। बोर्ड परीक्षाओं और नीट परीक्षाओं को एक साथ आगे लेकर चलना है। एक बार जब दोनों में तालमेल बिठा लिया तो यह प्रक्रिया आसान हो गई।

तन्मय बताते हैं कि 1 दिन में ज्यादा पढ़ने से कुछ नहीं होगा बल्कि लगातार थोड़ा-थोड़ा पढ़ते रहना है। यह एक 2 साल लंबा सफर है। ज्यादा दबाव लेने पर शुरूआत में ही थक गए तो फिर 2 साल लंबी पढ़ाई में मुश्किलें आ सकती है।

परीक्षा में अव्वल रही कार्तिका जी नायर का पसंदीदा विषय बायोलॉजी रहा और सबसे कम पसंदीदा सब्जेक्ट फिजिक्स है। क्योंकि उन्हें नंबर वाले विषय के साथ पढ़ना बहुत अधिक रुचिकर नहीं लगता। कोरोना और खासकर कोरोना के बाद लागू किए गए लॉकडाउन को लेकर कार्तिका कहती है कि तब में 11वीं कक्षा में थी और 12वीं में पहुंचने वाली थी।

कार्तिका ने कहा कि हमें अचानक मोबाइल और लैपटॉप पर शिफ्ट होना पड़ा। कोचिंग के लिए भी ऑनलाइन कोचिंग लेनी पड़ी। शुरूआत में यह बहुत कठिन था लेकिन कोचिंग के दौरान शिक्षकों ने भी पूरा साथ दिया और उतना ही कठिन परिश्रम हमारे साथ मिलकर किया। इससे बाद में स्थितियां आसान होती चली गई।

नीट यूजी 2021 परीक्षा भारत के 202 शहरों में 3,800 से अधिक परीक्षा केंद्रों में रविवार 12 सितंबर को दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे के बीच आयोजित की गई थी। पूरे देश में लगभग 16 लाख छात्रों ने परीक्षा में शामिल होने के लिए आवेदन किया था।

एनटीए के मुताबिक भारत सरकार की पहल पर मेडिकल प्रवेश परीक्षा ‘नीट-यूजी’ पहली बार दुबई में भी आयोजित की गई। दुबई स्थित परीक्षा केंद्र के अलावा कुवैत में भी नीट-यूजी परीक्षा आयोजित करवाई गई।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button