मौसम

Cyclone Biparjoy: आज राज्य में आंधी के साथ छिटपुट बारिश का अनुमान; मेघराजा सौराष्ट्र में ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करेंगे

Cyclone Biparjoy: आज राज्य में आंधी के साथ छिटपुट बारिश का अनुमान; मेघराजा सौराष्ट्र में ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करेंगे

अहमदाबाद: चक्रवात बिपारजॉय का असर शनिवार को गुजरात राज्य में देखा जा सकता है। इसके चलते आज राज्य के कई हिस्सों में भारी बारिश या गरज के साथ छींटे पड़ने की संभावना है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक, मेघराजा मोटाभाई पोरबंदर, अमरेली और भावनगर समेत अन्य इलाकों में तूफानी बल्लेबाजी कर सकता है। शुक्रवार शाम तक यह चक्रवात पोरबंदर से 740 किलोमीटर दूर था। मेघराज सौराष्ट्र क्षेत्रों में शरारतपूर्ण बल्लेबाजी कर सकते हैं।

सौराष्ट्र में भारी बारिश का अनुमान

चक्रवात बिपारजॉय का असर गुजरात राज्य में देखा जा सकता है। राज्य में तीन दिनों तक तेज हवाओं के साथ छिटपुट बौछारें पड़ सकती हैं। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक समुद्र में लहरें उठ सकती हैं। रविवार से इस चक्रवात का असर और अधिक देखा जा सकता है। इसके चलते तेवा स्थित मांडवी बीच को भी 12 जून तक बंद रखने का निर्णय लिया गया है। फिलहाल सौराष्ट्र के लगभग सभी बंदरगाहों पर सिग्नल नंबर 2 दिया गया है।

समुद्र में तेज करंट देखा गया

गौरतलब है कि समुद्र में तेज करंट देखा गया है जिससे 8 से 10 फीट ऊंची लहरें उठ रही हैं। सरकारी और अर्धसरकारी कर्मचारियों को भी अपने कार्यालय मुख्यालय से बाहर जाने की अनुमति नहीं है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक, फुसफुसाती हवाओं के साथ भारी बारिश की संभावना है। यहां 50 से 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चल सकती है।

लोग पलायन करने की कोशिश करने लगे

बिपार्जॉय को लेकर अग्रिम तैयारी भी शुरू कर दी गई है। उसमें ऊना के नवाबंदर बीच पर सिग्नल नंबर 2 लगाया गया है। कार्यालय के बाहर एक नोटिस बोर्ड लगाया गया है, जिसमें मछुआरों को किसी भी तरह की जनहानि से बचने के लिए 3 दिनों तक सावधान रहने को कहा गया है। ऊना के स्लम एरिया में रहने वाले लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है|

मुख्यमंत्री ने एनडीआरएफ की टीमें तैनात कीं

शुक्रवार को एक समीक्षा बैठक के दौरान, आईएमडी अधिकारियों द्वारा मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल को बताया गया कि गुजरात में चक्रवात के आने की संभावना कम है। हालांकि, मुख्यमंत्री ने 13 तटीय जिलों के प्रशासन से सतर्क रहने का आग्रह किया। अधिकारियों ने पुष्टि की कि राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) की टीमों को पहले ही कुछ क्षेत्रों में तैनात किया जा चुका है, जबकि अतिरिक्त टीमों को जल्द ही तैनात किया जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button