Breaking News

प्रसव कक्ष की सेवाओं के डिजिटलाइजेशन टूल “MaNTrA” के लिए उत्तर प्रदेश को मिला रजत पदक

भारत सरकार के प्रशासनिक सुधार एवं लोक शिकायत विभाग, द्वारा इंदौर में आयोजित “26 वीं नेशनल ई-गवर्नेंस कांफ्रेंस” में उत्तर प्रदेश में प्रसव कक्ष में प्रसूताओं व नवजातों को दी जा रही सेवाओं के डिजिटलाइजेशन टूल “MaNTrA” “मंत्र” को “नेशनल एवार्ड फॉर ई-गवर्नेंस-2023” का “रजत पदक” प्रदान किया गया।

जितेंद्र सिंह, केन्द्रीय मंत्री, प्रशासनिक सुधार एवं लोक शिकायत विभाग, भारत सरकार ने मिशन निदेशक, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, उत्तर प्रदेश/सचिव, चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, उत्तर प्रदेश शासन डा0 पिंकी जोवल को किया सम्मानित समस्त राजकीय प्रसव केन्द्रों पर प्रसव तथा संदर्भन सम्बन्धी सेवाओं का किया गया है डिजिटलाइजेशन लेबर रूम के डिलीवरी रजिस्टर और रेफरल-आउट रजिस्टर के डाटा को रियल टाइम ऐप में प्रसव कक्ष की उपचारिकाओं द्वारा जा रहा है भरा मंत्र के उपयोग से प्रसव कक्ष में प्रदान की जाने वाली सेवाओं की गुणवत्ता हुयी बेहतर एवं जन्म प्रमाणपत्र निर्गमन हुआ आसान 25.8.2023, लखनऊ. मातृ एवं नवजात शिशु मृत्यु दर में कमी लाने की दिशा में निरंतर प्रयासरत चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, उत्तर प्रदेश को आज एक बड़ी सफलता प्राप्त हुयी है. प्रदेश की समस्त प्रसव इकाइयों (मेडिकल कालेज, जिला महिला/संयुक्त चिकित्सालय, एस0डी0एच0, सी0एच0सी0, पी0एच0सी0, पी0पी0सी0, बी0एम0सी0, एवं स्वास्थ्य उपकेन्द्र) के लिए हिन्दी भाषा में विकसित “डंछज्त।- माँ नवजात ट्रेकिंग ऐप” का शुभारम्भ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा दिनांक 05-12-2021 को किया गया. वर्तमान में 5547 प्रसव इकाइयों द्वारा डाटा अंकित किया जा रहा है. अब तक 32 लाख से अधिक प्रसव का डाटा अंकित किया जा चुका है।

प्रमुख बिंदु मन्त्र-सी0आर0एस0 माड्यूल के माध्यम से जन्म पंजीकरण भी सुगमतापूर्वक किया जा रहा है। प्रसव केन्द्रों पर प्रसव तथा संदर्भन सेवाओं के सुदृढ़ीकरण के साथ रियल टाइम सूचनाओं की उपलब्धता, नीतिगत निर्णय तथा स्वास्थ्य सुविधाओं की गुणवत्ता में सुधार एवं विभिन्न स्तरों पर डाटा आधारित निर्णय लेने में सुविधा प्रदान करता है, इससे सूचनाओं के मूल्यांकन और अनुश्रवण में सफलता मिली है। प्रत्येक हाई रिस्क प्रेगनेंसी, कम वजन के शिशु और बच्चों में जन्मजात विकृति को चिन्हित कर स्वास्थ्य सेवायें उपलब्ध कराई गयीं। डिलीवरी प्वाइंट ऑनलाइन डैशबोर्ड के माध्यम से राज्य एवं जनपद स्तर पर रियल टाइम आंकलन में सहायता मिली. अब जन्म प्रमाण पत्र भी इस पोर्टल के सहयोग से जारी किये जा रहे हैं। मानव सम्पदा पोर्टल से सम्बद्ध कर प्रसव इकाइयों में तैनात समस्त स्टाफ की सूचना व प्रतिदिन के प्रसवों में उनके योगदान के साथ ही एम्बूलेंस के उपयोग, ब्लड बैंक/बी0एस0यू0 की कार्यक्षमता एवं रेफरल से सम्बंधित निर्णयों को जनपद एवं राज्य स्तर पर अवगत रहने में इस ऐप से सहायता मिली।

इस ऐप के प्रारम्भिक योजनाकार तत्कालीन मिशन निदेशक श्रीमती अपर्णा उपाध्याय एवं क्रियान्वयन तत्कालीन महाप्रबंधक, मातृ स्वास्थ्य, डा0 मनोज कुमार शुक्ल, उप महाप्रबंधक (एम0आई0एस0) श्री महेंद्र यादव व यूनीसेफ की डा0 कनुप्रिया द्वारा किया गया। वर्तमान महाप्रबंधक मातृ स्वास्थ्य डा0 रवि प्रकाश दीक्षित, डा0 शमिता प्रधान एवं उनकी टीम द्वारा किये जा रहे सतत प्रयासों से प्रदेश में मन्त्र ऐप सफलतापूर्वक संचालित है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button