मनोरंजनयात्रा

भारत के 6 हवाई अड्डों में डिजीयात्रा सुविधा, मुंबई और लखनऊ भी शामिल

जानकारी के मुताबिक, भारतीय हवाई अडडे और नागर उड़ान मंत्रालय अब और 6 हवाई अड्डों में डिजी यात्रा की कागजरहित बोर्डिंग सुविधा की शुरुआत करने जा रहे हैं।

पहले ही रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली में यह सुविधा पहले से ही उपलब्ध है, जहां यात्री डिजीयात्रा सुविधा का उपयोग मोबाइल एप्लिकेशन डाउनलोड किए बिना कर सकते हैं। आगे बढ़कर इस सुविधा के बारे में और अधिक जानें।

दिल्ली के अलावा, अन्य उड़ान-स्थल जिनमें पहले से ही यह प्रणाली लागू हैं, वे हैं वाराणसी और बेंगलुरु।

Table of Contents

डिजीयात्रा क्या है?

डिजीयात्रा एक चेहरे की पहचान पर आधारित तकनीक है, जिसे पिछले साल दिसंबर में लॉन्च किया गया था। यह प्रणाली हवाई अड़डे के प्रवेश से बोर्डिंग पॉइंट तक एक तेज, कागजरहित अनुभव प्रदान करती है, क्योंकि यह यात्री को एयरलाइन काउंटर की कतारों को छोड़कर डिजीयात्रा पंजीकृत यात्रीओं के लिए अलग गेट के माध्यम से कैबिन सामान की जल्दी जाँच करने की अनुमति देती है। क्योंकि यह सुविधा संपर्करहित है, इससे आपकी समय की 15-25 मिनट की बचत होगी।

आगे बढ़कर, इस डिजिटल बोर्डिंग सुविधा को इस महीने से मुंबई, अहमदाबाद, कोची, लखनऊ, जयपुर और गुवाहाटी में उपलब्ध किया जाएगा।

More than 1.6 Lakh air travelers have taken benefit of Digi Yatra. - newsmantra.in l Latest news on Politics, World, Bollywood, Sports, Delhi, Jammu & Kashmir, Trending news | News Mantra
News Mantra

मुंबई

मुंबई अब वे मेट्रो शहरों की श्रेणी में शामिल हो जाएगा, जिनमें यह सुविधा होगी, और बायोमेट्रिक्स सक्षम हवाई अड़डे का अनुभव प्रदान करेगा। मुंबई एयरपोर्ट पहले से ही ऐसे अनुभव प्रदान करने के लिए जाना जाता है जो आधुनिक वायुयात्रा को परिभाषित करने और यात्रियों को एक सुंदर तरीके से भारतीय संस्कृति प्रदर्शित करने का अवसर प्रदान करते हैं। अब हर साल लाखों यात्रियों का संचालन करने के अलावा, यह उनके अनुभव को शांतिपूर्ण और परेशानी-मुक्त बनाने में भी मदद करेगा।

File:Mumbai International airport T2 boarding gates.JPG - Wikimedia Commons
Medhaj News

 

अहमदाबाद

डिजीयात्रा सेवा अब इस महीने अहमदाबाद एयरपोर्ट में प्रस्थान करेगी, जिससे यात्रियों के अनुभव को सुधारने में सहायक होगी। क्योंकि यह देश के सबसे व्यस्त एयरपोर्टों में से एक है, डिजीयात्रा की प्रोत्साहना की नई प्रणाली सभी प्रक्रिया को विनम्र बनाएगी। क्योंकि यह प्रणाली यात्री की पहचान और यात्रा जानकारी की पुष्टि चेहरे की विशेषताओं का उपयोग करके करती है, यह यात्रियों को विभिन्न हवाई अड़डों के चेकपॉइंटों से आसानी से गुजरने की अनुमति देगी।

File:SVPI Airport Ahmedabad.JPG - Wikimedia Commons
Medhaj News

कोची

कोची एयरपोर्ट से कागजरहित यात्रा करना अब हकीकत बन चुका है, क्योंकि डिजीयात्रा प्रणाली यहाँ पर भी लागू हो चुकी है। यदि रिपोर्टों पर जाएँ, तो तिथियों की सीमित एयरलाइन्स के साथ एक प्रयोग के रूप में एक चेहरे की पहचान की सुविधा के साथ कागजरहित प्रवेश फरवरी 2023 से पहले ही यहाँ पर प्रैक्टिस में था। जबकि प्रयोग केवल सीमित एयरलाइन्स के साथ था, इस एप्लिकेशन वाले सभी यात्री 15 अगस्त से इस सुविधा का उपयोग कर सकेंगे।

File:Cochin International Airport Limited.jpg - Wikimedia Commons
Medhaj News

लखनऊ

लखनऊ एयरपोर्ट भी पीछे नहीं है। इसने भी इस उच्चस्तरीय प्रणाली को प्रस्तुत किया है ताकि यात्रियों को यहाँ पर सुगम अनुभव हो। क्योंकि इस प्रक्रिया से यात्रियों की डिजिटल प्रसंस्करण की अनुमति दी जाएगी एक हवाई अड़डे पर विभिन्न स्पर्श बिंदुओं में, यह आपके यात्रा को और भी सुविधाजनक और मनोरंजनमय बनाएगा।

File:CCS International Airport.jpg - Wikimedia Commons
Medhaj News

जयपुर

रिपोर्ट के अनुसार, कार्यक्रम पहले से ही केवल एक विशिष्ट प्रवेश मार्ग के साथ शुरू होगा, जिसे प्रतिक्रिया के अनुसार बढ़ाया जाएगा। यह कुशल प्रोग्राम घरेलू यात्रियों को बायोमेट्रिक बोर्डिंग प्रणाली (फेस पॉड्स) का उपयोग करने की अनुमति देगा, और बोर्डिंग और चेक-इन प्रक्रियाओं के लिए चेहरे की बायोमेट्रिक्स का उपयोग करके मैन्युअल सत्यापन को हटा देगा।

File:Jaipur Airport.JPG - Wikimedia Commons
Medhaj News

गुवाहाटी

गुवाहाटी एयरपोर्ट भी डिजीयात्रा सुविधा के तहत राजस्थान-आदित्य चेहरे की पहचान तकनीक को प्राप्त करेगा, जिससे यात्रियों के पास टिकट और पहचान प्रलेखन के मैन्युअल सत्यापन की आवश्यकता होगी, जिससे यात्रियों का महत्वपूर्ण समय बचेगा।

File:Guwahati Airport Entrance.jpg - Wikimedia Commons
Medhaj News

इस नई डिजीयात्रा सुविधा के साथ, भारत के हवाई अड़डों में अब कागजरहित और तेज यात्रा का समय आ गया है। इस प्रणाली के जरिए आपका समय बचाने का नया तरीका है, जो आपकी यात्रा को और भी सुविधाजनक और आनंदमय बनाएगा।

 डिजीयात्रा सुविधा के बारे में आपके सवालों के जवाब

1. डिजीयात्रा सुविधा क्या है?

डिजीयात्रा एक चेहरे की पहचान पर आधारित तकनीक है जिसका उद्घाटन पिछले साल दिसंबर में किया गया था। यह प्रणाली हवाई अड्डे की प्रवेश से बोर्डिंग पॉइंट तक कागजरहित और तेज अनुभव प्रदान करती है, जिससे यात्री एयरलाइन काउंटर की कतारों को छोड़कर डिजीयात्रा पंजीकृत यात्रीओं के लिए अलग गेट के माध्यम से कैबिन सामान की जल्दी जाँच करने की अनुमति देती है।

2. कौन-कौन से अड़डे में डिजीयात्रा सुविधा उपलब्ध है?

डिजीयात्रा सुविधा अब दिल्ली के साथ, वाराणसी और बेंगलुरु जैसे हवाई अड़डों में उपलब्ध है। इसके साथ ही, इस सुविधा को अगस्त 2023 से मुंबई, अहमदाबाद, कोची, लखनऊ, जयपुर और गुवाहाटी में भी लागू किया जाएगा।

3. कैसे डिजीयात्रा सुविधा का उपयोग करें?

डिजीयात्रा सुविधा का उपयोग करने के लिए आपको मोबाइल एप्लिकेशन डाउनलोड करने की आवश्यकता नहीं होती है। यात्रा के दौरान यदि आपके पास यह एप्लिकेशन है, तो आप चेहरे की पहचान का उपयोग करके अलग गेटों से आसानी से गुजर सकते हैं और यात्रा के विभिन्न पहलुओं को सुगमता से पूरा कर सकते हैं।

4. डिजीयात्रा सुविधा के फायदे क्या हैं?

डिजीयात्रा सुविधा से आपकी यात्रा का समय बचेगा और यात्रा के प्रक्रियाओं को सुगमता से पूरा करने में मदद मिलेगी। यह आपको अलग गेटों से बोर्डिंग करने की अनुमति देती है और कैबिन सामान की जल्दी जाँच करने का आसान तरीका प्रदान करती है।

5. क्या इस सुविधा का उपयोग सभी यात्री कर सकते हैं?

हां, डिजीयात्रा सुविधा का उपयोग सभी यात्री कर सकते हैं जिनके पास इस एप्लिकेशन की विशेष सुविधा है। यह सुविधा चेहरे की पहचान के माध्यम से काम करती है और यात्रियों को सुरक्षित और तेज अनुभव प्रदान करने में मदद करती है।

6. क्या डिजीयात्रा सुविधा का उपयोग करना सुरक्षित है?

जी हां, डिजीयात्रा सुविधा का उपयोग करना सुरक्षित है। यह चेहरे की पहचान पर आधारित है जो आपकी प्रवेश की पुष्टि करता है और यात्रा के प्रक्रियाओं को सुरक्षित बनाता है। आपकी जानकारी की रक्षा के लिए सुरक्षा उपाय भी अद्यतित की जाती है।

 

Read More :-

 

कर्नाटक: जल्द ही, कावेरी वन्यजीव अभयारण्य में जंगल सफारी की शुरुआत होने वाली है

बैंगलोर में घूमने के शानदार स्थलों का आनंद लें

 बैंगलोर के लालबाग में ‘मिनी पश्चिमी घाटी’

अंडमान और निकोबार द्वीप समूह: भारत का प्राकृतिक सौंदर्य का खजाना

चोरला घाट: गोवा-कर्नाटक सीमा पर प्रकृति की अनुपम खूबसूरती

पेक्वेनो द्वीप, गोवा: अद्भुत सौंदर्य और अविस्मरणीय अनुभव

 

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button