दुनिया

यूरोप में बिजली संकट: अफ्रीकी देशों ने यूरोप को गोल्ड और यूरेनियम की सप्लाई बंद की

मोर्चा १: रूस-यूक्रेन जंग से उभरा अफ्रीकी देशों का विरोध

रूस-यूक्रेन के बीच चल रही जंग के बाद दुनिया का एक और मोर्चा खुला है। अफ्रीकी देशों, जैसे कि नाइजर, बुर्किना फासो, और माली ने खुलकर ऐलान किया है कि यूरोप में गोल्ड और यूरेनियम की सप्लाई बंद कर दी जाएगी। इससे यूरोप में बड़ा बिजली संकट पैदा हो सकता है।

मोर्चा २: नाइजर और दूसरे अफ्रीकी देशों के विद्रोह से नाटो की चिंता

नाइजर, बुर्किना फासो और माली के विद्रोही तेवर ने पश्चिमी अफ्रीकी देशों को बड़े चक्रव्यूह से जकड़ लिया है। नाइजर के आर्मी कमांडर अब्दुर्रहमान त्चियानी और बुर्किना फासो के सैन्य कमांडर जनरल इब्राहिम ट्रोरे के नेतृत्व में ये देश विरोधी ऐलान किया हैं कि पश्चिमी अफ्रीकी देशों से यूरेनियम और गोल्ड की सप्लाई बंद होगी।

मोर्चा ३: यूरोप में बिजली संकट की आशंका

पश्चिमी अफ्रीकी देशों से आने वाले यूरेनियम से यूरोप के ७५% बिजली उत्पादन होता है। इसलिए, यदि यूरोप में यूरेनियम की सप्लाई बंद हो जाती है, तो वहां सर्दियों में बिजली संकट का सामना करना पड़ सकता है। खासतौर से फ्रांस के लिए ये बड़ा संकट होगा, क्योंकि फ्रांस के लिए पूरा यूरेनियम नाइजर से आता है।

मोर्चा ४: नाटो की सीधी धमकी

नाटो ने पश्चिमी अफ्रीकी देशों को यूरोपीय देशों के पक्ष में अभियान करने के लिए सीधी धमकी दी है। ये देश अब से नाइजर और दूसरे अफ्रीकी देशों के साथ तमाम उड़ानों, आयात-निर्यात, मानवीय सहायता और हर तरह के लेन-देन पर रोक लगा रहे हैं।

मोर्चा ५: फ्रांस और अमेरिका को चैलेंज

नाइजर, गिनी, माली और अल्जीरिया के साथ मिलकर पश्चिमी देश फ्रांस और अमेरिका को चैलेंज कर रहे हैं। इन देशों के विद्रोही तेवर ने दुनिया को साफ

संदेश भेजा है कि वे अब यूरोप को यूरेनियम और गोल्ड की सप्लाई बंद करने के लिए तैयार हैं।

मोर्चा ६: दुनिया एक और जंग की चिंता में

पश्चिमी अफ्रीकी देशों के विरोधी तेवर और नाटो की सीधी धमकी से दुनिया एक और जंग की चिंता में घिर सकती है। यदि स्थिति नियंत्रण से बाहर निकल गई, तो दुनिया को इस नई जंग का सामना करना हो सकता है।

Read more….कश्मीर पर राग अलापने की बजाय अपने मामलों पर ध्यान दे पाकिस्तान: UN में भारत के काउंसलर आर मधुसूदन

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button