Breaking News

एक दिन स्कूल में भंयकर आग लग गयी

एक दिन स्कूल में भंयकर आग लग गयी

————————————————–

एक दिन स्कूल में भंयकर आग लग गयी

आग लगने से सब बच्चे खुश थे कि अब कुछ दिनों

तक हम लोगो को स्कूल नहींजाना पड़ेगा,

पर अंकित  उदास बैठा था,

मास्टर जी ने :– पप्पू बेटा तुम इतने दुःखी क्यो हो?

अंकित  :– सर जी, आप इस आग से जिंदा कैसे बच गए।

——————————————————-

राजन  ने एक दिन क्लास में पोट्टी कर दी।

तो इसी कारण टीचर ने उसको 70 रुपये की

जुर्माने वाली पर्ची थमा दी।

राजन ने मैडम से पूछा ये क्या है।

टीचर :- 40 रुपये पोट्टी करने के और 30

रूपये सुसु करने के।

फिर राजन ने जेब में हाथ डाला और

मैडम को 80 रुपये दिए।

टीचर :- राजन ये 10 रुपये ज्यादा क्यों दिए?

राजन :- मैडम की में एक शिक्षा के मंदिर में बैठा हूं,

झूठ बिलकुल भी नहीं बोलूंगा,

मैडम जी मेरे एक पाद भी मारा था

तो 10 रुपये उसका है।

——————————————————-

अध्यापक :- राजू मुझे घर की परिभाषा सुनाओ ।

राजू :- सर जी, जो घर हमेशा हौसले से बनाये जाते हैं उसे हल सब “हाऊस” कहते हैं…

और फिर जिन घरों में हम लोग होम-हवन करते हैं

उन्हें हम सब “होम” कहते हैं…

और जिन-जिन घरों में अधिक हवा चलती है

उन्हें हम बस “हवेली”कहते हैं…

फिर जिन घरों के दीवारों में भी कान होते है

उन्हें हम सब लोग “मकान” कहते हैं…

और जिन घरों के लोन लेता है और फिर इंस्टॉलमेंट भरते-भरते आदमी एक दिन लेट जाता है

उन्हें हम सब “फ्लैट” कहते हैं…

और जिन घरों में कभी यह भी पता न चल पाये,

कि बगल वाले घर में क्या चल रहा है

उन्हें हम सब “बंगला” कहते हैं

“राजू  को student of the year चुना गया”

——————————————————-AR

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button