क्राइम

सूरत में एसिड निगलकर लड़की ने की आत्महत्या, परिवार ने लगाए गंभीर आरोप

सूरत शहर के डिंडोली इलाके में रहने वाले एक परिवार की लड़की दूसरे युवक के साथ भाग रही थी और लड़की की बहन को नग्न कर पीट-पीटकर मार डाला गया. जिसके चलते लड़की ने एसिड निगलकर आत्महत्या कर ली। इस घटना के बावजूद मृतक के परिवार का आरोप है कि डिंडोली पुलिस मृतक लड़की के परिवार की शिकायत लेने में ढिलाई बरत रही है. जहां गरीब परिवार ने न्याय की मांग के साथ आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर पुलिस कमिश्नर का दरवाजा खटखटाया है.

जानकारी के मुताबिक, सूरत के डिंडोली इलाके में श्रद्धा सोसायटी में रहने वाले और मेहनत-मजदूरी कर अपने परिवार का भरण-पोषण करने वाले विष्णुकुमार बद्रीलाल अपनी पत्नी और बच्चों के साथ न्याय की मांग को लेकर अठवालाइन्स स्थित पुलिस आयुक्त कार्यालय पहुंचे. परिजनों ने कमिश्नर कार्यालय में लिखित शिकायत दर्ज कर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.

विष्णुकुमार बद्रीलाल तैली ने आरोप लगाया, ‘भरत मोरे और शांताराम मोरे ने मेरी बेटी का अपहरण कर लिया. इसके बाद उसे एक बंद घर में बंधक बनाकर निर्वस्त्र कर पीटा गया. जिसके कारण मेरी बेटी ने जहर निगलकर आत्महत्या करने का प्रयास किया. जहां बेटी को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां कुछ देर इलाज के दौरान बेटी की मौत हो गई। शांताराम मोरे की बेटी किसी और के साथ भाग गयी थी. यह संदेह कर कि उसे भगाने में मेरी बेटी का हाथ है, उसे बेरहमी से पीटा गया. सूरत स्मीमेर अस्पताल में बेटी का पोस्टमार्टम कराने में भी काफी देरी हुई. इस संबंध में डिंडोली पुलिस को लिखित ज्ञापन देने के बावजूद शांताराम मोरे, भरत मोरे सहित अन्य लोगों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है। डिंडोली थाने के पीआई को भी घटना की जानकारी दे दी गई है. लेकिन पुलिस इस मामले में शिकायत दर्ज करने को तैयार नहीं है.

परिवार के गंभीर आरोपों को लेकर डिंडोली थाने के आर.जे. चुडास्मा ने कहा, ‘यह पूरी घटना 22 जून की है. जहां परिवार की लड़की ने सोसायटी में रहने वाले दूसरे परिवार की लड़की को भगाने में मदद की. जांच में लड़की के मोबाइल नंबर से व्हाट्सएप चैट मिली. जिसके चलते लड़की से पूछताछ की गई. उसके बाद, लड़की ने अज्ञात कारणों से एसिड निगल लिया और उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया। घटना के समय परिजनों ने यह आरोप नहीं लगाया कि लड़की को पीटा गया है. इस बीच इलाजरत लड़की की अस्पताल में लंबे इलाज के बाद दो दिन पहले मौत हो गई. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में ऐसा कोई निशान नहीं मिला कि लड़की को पीटा गया हो। परिवार द्वारा लगाए गए आरोप निराधार भी हो सकते हैं. लेकिन अभी भी डिंडोली पुलिस मामले की जांच कर रही है. साक्ष्य मिलने पर आरोपियों के खिलाफ 306 के तहत मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

बता दें कि मृतक दीपिका तैली के परिवार ने शांताराम और भरत मोरे समेत कई लोगों पर गंभीर आरोप लगाए हैं. उस वक्त पुलिस ने कहा है कि उन्होंने इस मामले में जांच शुरू कर दी है.

Read more….ऑनलाइन गेम खेलने के नाम पर उड़ाए 11 लाख रुपये, मामला दर्ज

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button