नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 124वीं जयंती पर भारतीय रेलवे ने बड़ा फैसला लिया

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 124वीं जयंती पर भारतीय रेलवे ने बड़ा फैसला लिया

Netaji Subhash Chandra Bose की 124वीं जयंती पर Indian Railways ने बड़ा फैसला लिया है। कोलकाता के हावड़ा से कालका तक जाने वाली हावड़ा-कालका मेल का नाम बदल दिया है। कालका एक्सप्रेस अब Netaji Express के नाम से चलेगी। इसकी जानकारी Indian Railway ने ट्वीट कर दी है। 18 January 1941 को इसी ट्रेन में बैठकर Netaji ने अंग्रेजों को चकमा दिया था। इसके बाद Netaji अंग्रेजों के हाथ कभी नहीं आए। 

Rail Ministry ने कहा है - Netaji का पराक्रम भारत को स्वतंत्रता और विकास के Express way पर लाया था। हावड़ा-कालका मेल Indian Railway की सबसे प्रसिद्ध और सबसे पुरानी ट्रेनों में से एक है। यह Delhi के रास्ते हावड़ा (Eastern Railway) और कालका (Northern Railway) के बीच चलती है। इस बाबत रेल मंत्री Piyush Goyal ने भी ट्वीट किया है। उन्होंने कहा है कि कालका एक्सप्रेस अब  Netaji Express के नाम से दौड़ेगी। इससे पहले केंद्र सरकार ने Netaji Subhash Chandra Bose की जयंती को 'पराक्रम दिवस' के रूप में मनाने का ऐलान किया है। दिल्ली के लाल किले में Netaji Subhash Chandra Bose पर एक संग्रहालय भी स्थापित किया गया है, जिसका उद्घाटन 23 January 2019 को PM Narendra Modi द्वारा किया गया था। 

Netaji Subhash Chandra Bose की 124वीं जयंती और 125वें जयंती वर्ष के शुभारंभ अवसर पर Kolkata में कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। इस कार्यक्रम में PM Narendra Modi हिस्सा लेंगे। इससे पहले ही नेताजी पर राजनीति शुरू हो गई है। विपक्ष पराक्रम दिवस के ऐलान को भी राजनीति से जोड़कर देख रहा है। वहीं बीजेपी नेताओं का कहना है कि महापुरुषों का सम्मान हमारे संस्कारों में है।  


    Share this story