महाराष्ट्र सरकार ने CM से C ग्रेड कर्मियों का वेतन काटने का फैसला किया, 50% तक होगी कटौती

Medhaj News 31 Mar 20 , 06:01:40 Governance Viewed : 5 Times
24uddhav_thackeray.jpg

तेलंगाना के बाद महाराष्ट्र सरकार ने भी करोना संकट की वजह से मुख्यमंत्री से लेकर सी ग्रेड के कर्मचारियों तक के मार्च के वेतन में कटौती का आदेश जारी कर दिया है। वेतन में कटौती 25 से 60 % तक होगी। डी ग्रेड के कर्मचारियों को वेतन कटौती से राहत दी गई है।

शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी गठबंधन सरकार में राज्य के उपमुख्यमंत्री और वित्त मंत्री का पद संभालने वाले अजीत पवार ने मंगलवार को इसकी घोषणा की। उन्होंने कहा कि सभी निर्वाचित प्रतिनिधियों के वेतन में कटौती का आदेश जारी किया गया है। सीएम से लेकर सभी विधायकों और एमएलसी की सैलरी में मार्च महीने में 60 पर्सेंट की कटौती की जाएगी।





इससे पहले सोमवार को तेलंगाना सरकार ने भी कर्मचारियों के वेतन में कटौती का ऐलान किया। कोरोना और राज्य के खजाने पर आर्थिक संकट के मद्देनजर तेलंगाना की के चंद्रशेखर राव यानी केसीआर की सरकार ने राज्य के सभी मंत्रियों, विधायकों, अधिकारियों, कर्मचारियों की सैलरी में 75 परसेंट तक की कटौती का फैसला किया है। तेलंगाना सरकार ने नौकरी वालों के साथ-साथ पेंशन पाने वाले पूर्व कर्मचारियों और अधिकारियों के पेंशन में भी 50 परसेंट तक की कटौती कर दी गई है। सिर्फ क्लास 4 कर्मचारियों की सैलरी या रिटायर्ड ग्रुप 4 कर्मचारियों के पेंशन में 10 परसेंट की कटौती का फैसला हुआ है।

पवार ने कहा कि ग्रेड-ए और ग्रेड-बी स्तर के कर्मचारियों की सैलरी आधी यानी 50 पर्सेंट काटी जाएगी। ग्रेड-सी के कर्मचारियों को 25 पर्सेंट कम वेतन मिलेगा। डी ग्रेड कर्मचारियों को कटौती से बाहर रखा गया है। पवार ने कहा कि यह अभूतपूर्व संकट का समय है और हमें उम्मीद है कि सभी कर्मचारियों और कर्मचारी संघों का हमें इस चुनैतीपूर्ण समय में सहयोग मिलेगा। सोमवार को अजीत पवार ने केंद्र से राज्य के लिए 25 हजार करोड़ रुपये के पैकेज की भी मांग की थी।


    0
    0

    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends

    Special Story