पीएम मोदी ने लेह में जवानों को संबोधित किया

पीएम मोदी ने लेह में जवानों को संबोधित किया

पीएम मोदी ने लेह में जवानों को संबोधित करते हुए कहा कि हाल में गलवान घाटी में आपने जो वीरता दिखाई, उसने पूरी दुनिया में भारत की ताकत को दिखाया | आपका समर्पण अतुलनीय है, इन कठिन परिस्थितियों में इस ऊंचाई में मां भारती की ढाल बनकर आप उनकी सेवा करते, रक्षा करते हैं, उसका मुकाबला पूरे विश्व में कोई नहीं कर सकता | आपका साहस उस ऊंचाई से भी ज्यादा है, जहां आप तैनात हैं | आपका सीना इस घाटी से भी सख्त है जिसको रोज़ अपने क़दमों से नापते हैं | आपकी भुजाएं पर्वतों से भी अटल हैं | आपकी इच्छाशक्ति पर्वतों से भी अटल है | मैं साक्षात इसे अपने आंखों से देख रहा हूं |  देश की रक्षा आपके मजबूत इरादों में हैं, आपके हाथों में है | ये अटूट विश्वास मुझे ही नहीं पूरे देश को है | अभी जो आपके साथियों ने वीरता दिखाई है, पूरी दुनिया में ये संदेश गया है कि भारत की ताकत क्‍या है | पीएम मोदी ने राष्‍ट्रकवि दिनकर की कविता 'कलम आज उनकी जय बोल' का उद्धरण देते हुए वीरों को नमन किया | देश के हर कोने से वीर अपना पराक्रम दिखाते हैं | उनके सिंहनाद से धरती उनका जयकारा कर रही है | आज हर देशवासी का सिर आपके सामने नतमस्तक होकर नमन करता है | हर भारतीय की छाती आपके पराक्रम से फूली हुई है | 14  कोर की जांबाजी के किस्से हर तरफ हैं | दुनिया ने आपका साहस देखा है | आपकी शौर्यगाथाएं घर-घर में गूंज रही हैं | दुश्मनों ने आपकी FIRE  भी देखी है और आपकी FURY भी | ये सर्वस्व न्योछावर करने वालों राष्ट्र भक्तों की धरती है |

पीएम मोदी ने कहा कि हमारा सामर्थ्य और संकल्प हिमालय जितना ऊंचा है | आप उसी धरती के वीर हैं जहां हजारों आक्रांताओं को मुंहतोड़ जवाब दिया गया है | हम वो लोग हैं जो बांसुरी धारी कृष्ण की पूजा करते हैं | हम वही लोग हैं जो सुदर्शन धारी कृष्ण की भी पूजा करते हैं | शांति और मित्रता हर कोई स्वीकार करता है | वीरता ही शांति की पूर्व शर्त होती है | निर्बल कभी शांति नहीं ला सकते | विस्‍तारवादी ताकतें कभी कामयाब नहीं हुईं | वे मिट गईं | इस युग में केवल विकासवादी सोच ही आगे बढ़ सकती है | विस्तारवाद का युग समाप्त हो चुका है | ये युग विकासवाद का है |  इसके लिए ही अवसर है | विकासवाद ही भविष्य का आधार है | बीती शताब्दियों में विस्तारवाद ने मानवता को बर्बाद करने का प्रयास किया | जिसने भी विस्तारवाद किया, ऐसी ताकतें हमेशा खत्‍म हुई हैं | आज विश्व विकासवाद को समर्पित है |



 


    Share this story