राज्यउत्तर प्रदेश / यूपी

49444 ग्राम पंचायतों में अब तक किया गया ग्राम चौपालों का आयोजन

उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के नेतृत्व व निर्देशन में ग्रामीणो की समस्यायों के निराकरण हेतु प्रदेश के प्रत्येक विकास खण्ड की दो ग्राम पंचायतों में प्रत्येक शुक्रवार को ग्राम चौपाल का आयोजन किया जा रहा है। उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने बताया कि ग्राम चौपालों के बहुत ही सार्थक परिणाम निखर कर सामने आ रहे हैं और काफी हद तक लोगों की समस्यायों का निराकरण उनके गांव में ही हो रहा है। सरकार खुद चलकर गांव व गरीबों के पास जा रही है, ग्राम चौपालों से जहां गांवों में चल रही विभिन्न परियोजनाओं की जमीनी हकीकत का पता चलता है, वहीं सोशल सेक्टर की योजनाओं के क्रियान्वयन में तेजी आ रही है।

उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने ग्राम चौपालों को और अधिक प्रभावी व परिणाम परक बनाने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया है कि और अधिक ठोस व प्रभावी रूपरेखा बनाकर चौपालों का आयोजन किया जाए तथा चौपालों से पूर्व सफाई अभियान चलाया जाए और चौपालों के बारे में अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार किया जाए ताकि अधिक-से-अधिक ग्रामीण वहां पर आयें और व्यक्तिगत समस्यायें ही न हल हों,बल्कि सार्वजनिक समस्याओं का भी समाधान चौपालों से ही हो।

चौपालों से सार्वजनिक समस्याओं का सर्वमान्य हल निकलेगा, क्योंकि वहां अधिकारी, कर्मचारी, जनप्रतिनिधि, जागरूक लोग व ग्रामीण सभी एक जगह मौजूद रहेंगे और अपने सुझाव भी देंगे।

ग्राम्य विकास आयुक्त जी एस प्रियदर्शी ने बताया कि शुक्रवार को प्रदेश की 1561 ग्राम पंचायतों में ग्राम चौपाल का आयोजन किया गया, जिनमें 5930 प्रकरणो का निस्तारण गांव पंचायतों में ही कर दिया गया। इन ग्राम चौपालों मे 4499 ब्लाक स्तरीय अधिकारी व कर्मचारी तथा 8169 ग्राम स्तरीय कर्मचारी मौजूद रहे और इन चौपालो में लगभग एक लाख ग्रामीणों ने सहभागिता की। ग्राम्य विकास विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार 6 जनवरी 23 से अब तक प्रदेश की 49444 ग्राम पंचायतों में ग्राम चौपालो का आयोजन किया जा चुका है, जिनमें 36 लाख से अधिक ग्रामीण मौजूद रहे और 2 लाख 41 हजार से अधिक समस्याओं व प्रकरणों का निस्तारण किया गया।

Read more….प्रदेश में आज से शुरू होगी धान, मक्का, बाजरा और ज्वार की खरीद

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button