विज्ञान और तकनीक

जीलैंडिया कैसे बना और क्यों डूब गया? पृथ्वी के आठवें महाद्वीप के नक्शे ने सुलझाया करोड़ों साल पुराना रहस्य

वैज्ञानिकों ने दुनिया के आठवें महाद्वीप का एक नक्शा जारी किया है, जिससे पता चला है कि दुनिया का आठवां महाद्वीप कैसे बना और यह क्यों समुद्र में डूब गया। जीलैंडिया का निर्माण लगभग 8 करोड़ 30 लाख वर्ष पहले, लेट क्रेटेशियस के दौरान हुआ था। उससे पहले यह गोंडवानालैंड का एक हिस्सा था।

जीलैंडिया का नया नक्शा बता रहा है कि यह कैसे बना

1820 में एक रूसी जहाज के नाविकों ने क्षितिज पर अजीब तरह से पेंगुइन से भरे बर्फ का एक विशाल किनारा देखा। यह फिम्बुल आइस शेल्फ का पहला नजारा था।

इसने आधुनिक विचार को और ज्यादा मजबूत किया, जिसमें कहा गया था कि दुनिया में सात प्रमुख भूभाग हैं। अंग्रेजी भाषी दुनिया के अधिकांश मानचित्र भी अंटार्कटिका की खोज के पहले उसके अस्तित्व को स्वीकारते थे।

लेकिन, 2017 में इस कहानी ने एक अप्रत्याशित मोड़ ले लिया, जिसमें कहा गया कि सात महाद्वीप वाला मॉडल हमेशा से एक गलती रही है।

जीलैंडिया: पृथ्वी का गुप्त रहस्य

ऑस्ट्रेलिया के दक्षिण-पूर्व में एक लंबे समय से खोई हुई भूमि का टुकड़ा जीलैंडिया की खोज ने सबको आश्चर्य में डाल दिया है। जीलैंडिया को पृथ्वी के भूले हुए आठवें महाद्वीप के रूप में भी जाना जाता है।

वैज्ञानिकों ने काफी समय पहले ही इस अज्ञात दक्षिणी भूभाग की भविष्यवाणी की थी, लेकिन यह 375 वर्षों तक गायब रहा क्योंकि यह लगभग पूरी तरह से 1 से 2 किमी पानी के नीचे डूबा हुआ है।

जीलैंडिया का मानचित्र

इस महीने शोधकर्ताओं की एक अंतरराष्ट्रीय टीम ने जीलैंडिया का अब तक का सबसे सटीक नक्शा जारी किया। इसमें पानी के नीचे के क्षेत्र को दर्शाने के लिए ब्लू डेटा टेक्नोलॉजी का उपयोग किया गया।

जीलैंडिया के डूबने के पीछे का कारण

जीलैंडिया का डूबने का पीछे का कारण एक विशेष प्रकार की चट्टानों का गोलाध्ययन है, जिन्हें सॉर्टसवी कहा जाता है। इन सॉर्टसवी चट्टानों का निर्माण आधुनिक ज्याचक के अनुसार करोड़ों वर्षों में हुआ है।

इसके अलावा, जीलैंडिया का डूबने का कारण मौसम और पानी की गति के अधिक समय तक किसी भी तरह के परिवर्तन का हो सकता है।

जीलैंडिया का डूबने का असर

जीलैंडिया का डूबने का असर दुनिया की मौसम प्रणालियों पर हो सकता है और यह अधिक खराब हो सकता है। डूबने के बाद, इसके तहत बने सुधार करना और स्थिरता बनाना मुश्किल हो सकता है, जिससे दुनिया के जलवायु परिवर्तनों का अधिक असर हो सकता है।

नक्शा बदल गया है

यह नक्शा वैज्ञानिकों के लिए एक महत्वपूर्ण मिलकर हुआ समय है, जो दुनिया की जलवायु परिवर्तनों को समझने के लिए मॉडल बनाते हैं। इसके अलावा, यह बताता है कि हमारी ज्ञान की बदलती दुनिया में कैसे सही जानकारी को स्थायित किया जा सकता है और कैसे हमें अपने प्राकृतिक संसाधनों का बेहतर उपयोग करने की आवश्यकता है।

नक्शा से जुड़ी और भी कई रहस्यमय बातें

जीलैंडिया के नक्शे के अलावा भी कई और रहस्यमय बातें हैं, जिनका खुलासा हमारे द्वारा अध्ययन किया जा रहा है। वैज्ञानिकों ने इसके अलावा भी दुनिया के महाद्वीपों के नक्शों को सही और विस्तार से समझने के लिए कई प्राथमिक खोजें की हैं, जो हमें यह समझने में मदद कर सकती हैं कि दुनिया की जलवायु परिवर्तन की दिशा में हम किस प्रकार से आगे बढ़ सकते हैं।

नक्शा का अंत

इस नक्शे के बारे में जो कुछ भी है, यह एक बड़ा कदम है जिससे हम अपनी ज़िन्दगी के इस महत्वपूर्ण हिस्से को समझ सकते हैं। यह हमारे प्राकृतिक विश्व के अनुसंधान में एक महत्वपूर्ण साझा कदम है, जिसका हम सभी बहुत ज्यादा अच्छा उपयोग कर सकते हैं।

FAQ:

पहला प्रश्न: जीलैंडिया कैसे डूब गया?

उत्तर: जीलैंडिया का डूबने का पीछे का कारण एक विशेष प्रकार की चट्टानों का गोलाध्ययन है, जिन्हें सॉर्टसवी कहा जाता है। इन सॉर्टसवी चट्टानों का निर्माण आधुनिक ज्याचक के अनुसार करोड़ों वर्षों में हुआ है। इसके अलावा, मौसम और पानी की गति के अधिक समय तक किसी भी तरह के परिवर्तन का भी असर हो सकता है.

दूसरा प्रश्न: जीलैंडिया का डूबने से क्या असर हो सकता है?

उत्तर: जीलैंडिया का डूबने से दुनिया की मौसम प्रणालियों पर हो सकता है और यह अधिक खराब हो सकता है। डूबने के बाद, इसके तहत बने सुधार करना और स्थिरता बनाना मुश्किल हो सकता है, जिससे दुनिया के जलवायु परिवर्तनों का अधिक असर हो सकता है.

तीसरा प्रश्न: इस नक्शे का क्या महत्व है?

उत्तर: यह नक्शा वैज्ञानिकों के लिए एक महत्वपूर्ण मिलकर हुआ समय है, जो दुनिया की जलवायु परिवर्तनों को समझने के लिए मॉडल बनाते हैं। इसके अलावा, यह बताता है कि हमारी ज्ञान की बदलती दुनिया में कैसे सही जानकारी को स्थायित किया जा सकता है और कैसे हमें अपने प्राकृतिक संसाधनों का बेहतर उपयोग करने की आवश्यकता है।

चौथा प्रश्न: इस नक्शे के अलावा और क्या रहस्यमय बातें हैं?

उत्तर: जीलैंडिया के नक्शे के अलावा भी कई और रहस्यमय बातें हैं, जिनका खुलासा हमारे द्वारा अध्ययन किया जा रहा है। वैज्ञानिकों ने इसके अलावा भी दुनिया के महाद्वीपों के नक्शों को सही और विस्तार से समझने के लिए कई प्राथमिक खोजें की हैं, जो हमें यह समझने में मदद कर सकती हैं कि दुनिया की जलवायु परिवर्तन की दिशा में हम किस प्रकार से आगे बढ़ सकते हैं।

Read more….नोकिया बैटमैन 5जी 2023 कीमत, रिलीज डेट और डिजाइन

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button