सेहत और स्वास्थ्य

गोलगप्पे के हैं शौकीन है तो, जान लीजिए इसके फायदे।

गोलगप्पे, पानीपुरी, फुल्की या फिर पुचका का नाम सुनते ही भला किसके मुंह में पानी नहीं आएगा। तीखे और चटपटे लगने वाले गोलगप्पे तो सभी ने खाए होंगे। अधिकतर लोगों को पानी पुरी काफी पसंद होता है। हालांकि कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो इसे अनहेल्दी मानते हैं और दूरी बनाते नजर आते हैं। अगर स्ट्रीट फूड की बात करें, तो सबसे ज्यादा खाने वाली चाट गोलगप्पा ही है। यह हर जगह आसानी से मिल जाता है और बेहद पसंद भी किया जाता है।

कसरत से पहले भोजन का महत्व: जिम जाने से पहले खाने वाली चीज़ें

गोलगप्पे एक ऐसी डिश है, जो न सिर्फ मुंह के टेस्ट को बदलने के लिए बल्कि आपकी सेहत के लिए भी बेहद फायदेमंद होती है। आपने आजतक गोलगप्पा खाने के नुकसान के बारे में सोचा होगा। कोई कहता होगा यह हाईजेनिक नहीं है तो किसी से यह कहते सुना होगा कि स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं होता है। गोलगप्पे के खट्टे-मीठे पानी की खुशबू से हर कोई उसकी तरफ खींचा चला जाता है।आज आपको गोलगप्पा खाने के फायदे बताने जा रहे हैं….

दरअसल, गोलगप्पे हर गली नुक्कड़ पर मिल जाते हैं। हर जगह ये आपको साफ पानी और साफ-सफाई से बने हुए मिलें, ऐसा मुमकिन नहीं है। इसी चक्कर में कई बार गोलगप्पे हमारी सेहत को नुकसान पहुंचा जाते हैं। अगर आप किसी साफ सुथरी जगह से गोलगप्पे खाते हैं तो गोलगप्पे आपकी सेहत को कोई नुकसान नहीं पहुंचाएंगे। लेकिन अगर आप किसी गंदी जगह से या अस्वच्छ तरीके से बनाए गए गोलगप्पे खाते हैं तो हो सकता है कि ये आपकी हेल्थ पर बुरा असर डाल देते है।

वजन कम करने के साथ कई बीमारियों से राहत दिलाता है अनानास -मेधज न्यूज़

विशेषज्ञों के अनुसार, अगर गोलगप्पे का सेवन निर्धारित मात्रा में किया जाए तो इसके कई फायदे हैं। एक बार में छह से ज्यादा गोलगप्पे नहीं खाना चाहिए। गोलगप्पे खाने से आपको कैलोरी मिलती है। आपका पेट लंबे समय तक भरा रहता है।

अगर आप वजन घटाने की कोशिश में जुटे हैं तो आप बेझिझक गोलगप्पे खा सकते हैं। क्योंकि इसमें सूजी, आलू, पानी, पुदीना, काला नमक, जीरा और इमली जैसे इंग्रेडिएंट्स मिलाए जाते हैं, जो सेहत को नुकसान नहीं पहुंचाते।

आपने अक्सर देखा होगा कि अगर किसी व्यक्ति के मुंह में छाले हो जाते हैं तो वह गोलगप्पे खाने पसंद करता है। क्योंकि इससे मुंह के छाले ठीक हो जाते हैं। दरअसल, गोलगप्पे के साथ मिलने वाले जलजीरा में तीखापन और पुदीना या खट्टापन से छाले को दूर करने में सहायक होता है। हालांकि, यह अधिक मात्रा में नहीं खानी चाहिए।

चुकंदर पुलाव बनाने की विधि

पेट से जुड़ी समस्याओं को कम करने में भी गोलगप्पे आपकी मदद कर सकते हैं। पानी पुरी खाने से एसिडिटी और कब्ज की समस्या दूर होती है।

इन बातों का रखें ख्याल

गोलगप्पे का पानी घर में ही बनाना चाहिए.
सूजी के बजाय आटे के गोल गप्पे खाने चाहिए.
गोलगप्पे में आलू की बजाय आप उबले हुए चने का इस्तेमाल किया जाना चाहिए.
लाल चटनी की बजाय दही का इस्तेमाल कर सकते हैं।

मानसून के मौसम में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करने वाले फल और सब्जियाँ

Related Articles

Back to top button