राज्यउत्तर प्रदेश / यूपी

वर्षा ऋतु के दृष्टिगत गोसंरक्षण केन्द्रों पर आवश्यक व्यवस्थायें सुनिश्चित की जाए – मंत्री धर्मपाल सिंह

उत्तर प्रदेश के पशुधन एवं दुग्ध विकास विभाग के कैबिनेट मंत्री धर्मपाल सिंह ने निर्देश दिये हैं कि प्रदेश में 11 जुलाई से 25 अगस्त तक अभियान चलाकर गोचर भूमियों को कब्जामुक्त कराया जाए और उस पर हरा चारा उगाया जाए। हरे चारे हेतु नैपियर घास को प्राथमिकता दी जाए, इसके साथ ही अभियान प्रगति की पाक्षिक रिपोर्ट मुख्यालय पर उपलब्ध कराई जाए। उन्होंने कहा कि आगामी 13, 14 व 15 जुलाई को शासन के वरिष्ठ अधिकारी अपने आवंटित मण्डलों में गोसंरक्षण स्थलों का स्थलीय निरीक्षण करें और वहां आवश्यक व्यवस्थायें सुनिश्चित करें।

पशुधन मंत्री ने विधान भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष में पशुधन विभाग द्वारा विगत तीन माह में किये गये कार्यों की समीक्षा की। मंत्री जी ने गोआश्रय स्थलों की समीक्षा करते हुए निर्देश दिये कि नोडल अधिकारी निरीक्षण के दौरान गोवंश हेतु जैसे टीन शेड, चारा-भूसा, पानी, प्रकाश एवं वर्षा ऋतु व बाढ़ की संभावना के दृष्टिगत आवश्यक व्यवस्थायें सुनिश्चित करें। उन्होंने वर्षा ऋतु में गोआश्रय स्थलों पर गोवंश को भीगने से बचाव हेतु टीन शेड की व्यवस्था करने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि निराश्रित गोवंश खेतों या सड़कों पर विचरण करते न दिखाई दें। इसलिए अधिकारी निराश्रित गोवंश को आश्रय स्थलों पर पहुचाये जाने के लिए हरसम्भव कार्य सुनिश्चित करें।

बैठक में अवगत कराया गया कि विगत तीन माह में कुल 68 नवीन गोआश्रय स्थलों में 37497 गोवंश संरक्षित किये गये हैं। अब तक कुल 6781 गोआश्रय स्थलों पर 11688875 गोवंश संरक्षित किये गये हैं। अब तक कुल 58 लाख कुन्तल भूसा संग्रहण किया जा चुका है।

बैठक में पशुधन एवं दुग्ध विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव डा0 रजनीश दुबे ने कहा कि मंत्री जी से प्राप्त दिशा-निर्देशों का अक्षरशः अनुपालन किया जायेगा। उन्होंने कहा कि गोचर भूमियों पर निर्धारित अवधि में अभियान चलाकर नैपियर घास की पैदावार बढ़ायी जायेगी, जिससे गोआश्रय स्थल के पशुओं को हरे चारे की आपूर्ति होगी और गोवंश के लिए हरे चारे का संकट नहीं होगा। उन्होंने कहा कि निराश्रित गोवंश को गोआश्रय स्थल पर पहुंचाने की कार्यवाही निरन्तर की जा रही है।

बैठक में पशुधन विभाग के विशेष सचिव देवेन्द्र पाण्डेय, विशेष सचिव शिव सहाय अवस्थी, निदेशक पशुपालन डा0 इन्द्रमणि, यूपीएलडीबी के अध्यक्ष डा0 नीरज गुप्ता तथा अपर निदेशक गोधन डा0 जे0के पाण्डेय उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button