अगर टाइम मिले तो पहली फुर्सत में देखें ये फिल्म

Medhaj news 5 Jun 20 , 15:53:51 India Viewed : 827 Times
chocked.jpg

अनुराग कश्यप की ये फिल्म जब तक आई तब तक नोटबंदी से लोग उबरकर लॉकडाउन में आ फंसे हैं लेकिन ये भी सच है कि अनुराग कश्यप से समाज से सीधे जुड़े ऐसे सिनेमा की उम्मीद थी नहीं जिसमें कि न एक भी गाली हो और न ही एक भी सेक्स सीन। गैंग्स ऑफ वासेपुर सीरीज की फिल्मों के बाद से अपने ही सिर पर हाथ रखकर नाचते रहे अनुराग कश्यप अब अपने उस खोल से बाहर आने लगे हैं जिसमें खुद उन्होंने अपने आप को कैद कर लिया था। वह मानते भी हैं कि उन्होंने फिल्म की रिलीज के महीनों पहले से अपनी फिल्मों के दबाव में रहकर भी अपना सिनेमा खराब किया। अब वह फैन ब्वॉय जर्नलिज्म के अपने चारों तरफ बने घेरे से भी बाहर निकल रहे हैं। अपने भीतर के उस बचपने को भी वह अब अपने लिए संभाल रहे हैं, जिसके चलते दूसरों को वह आत्मिक कष्ट देते रहे। अनुराग की ये फिल्म उनके जीवन में कल्कि केकलां के बाद आईं शुभ्रा शेट्टी को समर्पित है। जीवन से उनका ये नया अनुराग ही उनके सिनेमा को सपनों से निकालकर हकीकत के करीब ले आया है। चोक्ड में अनुराग की आखों की वह चमक फिर दिखती है। उनकी इस फिल्म की कहानी उनकी अपनी लिखी नहीं है, ये भी इस फिल्म का प्लस प्वाइंट ही है। अनुराग की मानें तो निहित भावे ने सात आठ साल पहले ये कहानी लिखी, ये लिखी किसी और मकसद से गई लेकिन इसमें नोटबंदी का छौंका मार अनुराग ने इसे एक सरकारी फैसले के संदर्भ में ऐतिहासिक दस्तावेज बना दिया है।





चोक्ड जैसे हालात देश के उन तमाम परिवारों के रहे हैं जिनके घर में एक बेरोजगार पति है। एक स्कूल जाने वाला बच्चा है। एक घर चलाने वाली महिला है जो दिन भर दफ्तर में खटती है और सुबह शाम घर का कचरा साफ करती है। कचरे में पड़े रहने वाले ‘आलू अप्पा’ जैसे लोगों का पेट भी भरती है। फिल्म का सबसे अहम इशारा इस बात की तरफ भी है कि नोटबंदी का असर जैसा सोचा गया था वैसा हुआ नहीं। काले धन की पुड़िया बांधकर गटर में छुपाने वालों के पास नोटबंदी से पहले भी अथाह पैसा था, और नोटबंदी हुई तो वे उसे बदलकर नए नोट भी उतने ही ले आए। बस, दोनों के बीच कुछ हुआ तो वह रहा ऐसे लोगों का लुंगी डांस जो अपने नेता के फैसलों का चरम आनंद (यूफोरिया) लेने के लिए झट सड़क पर थाली लेकर बारात की शक्ल में निकल आते हैं। पता नहीं ये फिल्म सिनेमाघरों मे रिलीज होने के लिए बनती तो प्रसून जोशी वाला सेंसर बोर्ड इसके साथ क्या करता लेकिन ये तो तय है कि ये इसी शक्ल में रिलीज नहीं हो पाती। ये फिल्म अदाकारी का एक नया कैनवास भी खींचती है। अनुराग के सिनेमा में महिला चरित्रों को अपने आसपास के समाज को रौंदकर अपना सशक्तिकरण जताने की आदत रही है। सरिता (सयामी खेर) भी वही करती है लेकिन उनके तेवर अलग हैं। काउंटर पर खड़ा ग्राहक उसे छेड़ता है तो वह उसकी बोलती बंद करती है और पति को उधार देने वाला उस पर रुआब जमाना चाहता है तो वह उसके तोते भी उड़ाती है। पति से उसे प्यार है पर बिस्तर पर उसकी अपनी ही चलती है। अदाकारी के लिहाज से ये फिल्म सयामी खेर के लिए एक ऐसा शो पीस है जिसे वह पूरी जिंदगी सबके सामने सजाकर रखना चाहेंगी। मिडिल क्लास लोगों के ऐसे किरदार कम लिखे जाते हैं हिंदी सिनेमा में और उन्हें उतनी ही शिद्दत से निभाना कलाकारों की अब प्राथमिकता तो है, लेकिन गटर में हाथ डालने से वे भी बचती हैं। अमृता सुभाष यहां नवाजुद्दीन सिद्दीकी के फीमेल वर्जन के तौर पर हैं। और, नवाजुद्दीन से बेहतर अभिनय करने में कामयाब रहती हैं। रोशन मैथ्यू समेत बाकी कलाकारों ने भी फिल्म को अच्छा सपोर्ट किया है।

फिल्म की तकनीकी टीम में दो लोगों का उल्लेख यहां जरूरी है। पहला तो फिल्म के सिनेमैटोग्राफर सिल्वेस्टर फोनसेका, जिन्होंने कैमरे के ऐसे ऐसे कोण इजाद किए हैं कि दर्शक कहानी शुरू होते ही खुद को कहानी का हिस्सा बना लेता है। फिल्म मुंबई के एक मिडिल क्लास घर में भले शूट हुई हो लेकिन चूंकि घर का एक सेट बनाकर इसे शूट किया गया है सो सिल्वेस्टर को सहूलियत रही फ्रिज के प्वाइंट ऑफ व्यू से भी सरिता का चेहरा दिखाने की! कर्ष काले का संगीत फिल्म का मूड सेट करने में अनुराग की सौ फीसदी मदद करता है। उत्कर्ष से सिर्फ कर्ष रह गए ब्रिटिश बॉर्न काले ने फिल्म की संवेदनाओं को समझा और उसके हिसाब से ही तबला दौड़ाया है। पहली फुर्सत मिलते ही ये फिल्म देख डालिए। मेरी तरफ से इस फिल्म को मिलते हैं चार स्टार।


    0
    0

    Comments

    • good movie.

      Commented by :Raj Kumar Das
      16-06-2020 12:13:47

    • ok

      Commented by :arif ahamad
      06-06-2020 15:08:55

    • Interesting script. Waiting for release

      Commented by :Vikash Kumar sinha
      06-06-2020 10:48:06

    • Ok

      Commented by :Randhir Kumar Gaurav Hajipur
      06-06-2020 06:37:47

    • Interesting news

      Commented by :Sant Vijay Yadav
      05-06-2020 22:58:44

    • Good

      Commented by :Gaurav Lohani
      05-06-2020 22:13:04

    • Achhi movie lag rahi hai jarur dekhenge

      Commented by :Kunal chandra
      05-06-2020 22:03:25

    • Ok

      Commented by :Ashish kumar nainital
      05-06-2020 20:38:02

    • Ok

      Commented by :Mithilesh Kumar Singh
      05-06-2020 20:32:17

    • Nice

      Commented by :Shyam Shankar shukla
      05-06-2020 20:27:06

    • Ok

      Commented by :Mohammed Razaullah
      05-06-2020 19:24:55

    • Yes definitely.....

      Commented by :Deependra Yadav
      05-06-2020 18:52:16

    • Waiting for the movie

      Commented by :Vishek Kumar
      05-06-2020 17:51:11

    • Nice

      Commented by :Pravesh Kumar Satyarthi
      05-06-2020 17:27:42

    • Waiting for the movie

      Commented by :Amiya Kumar Patel
      05-06-2020 17:20:59

    • Ok

      Commented by :Brijesh Yadav
      05-06-2020 17:14:31

    • Nice

      Commented by :Arti verma
      05-06-2020 17:06:11

    • Nice feedback..

      Commented by :Sameer Siddiquee Almora
      05-06-2020 17:01:56

    • Waiting

      Commented by :Vartika Mishra
      05-06-2020 17:00:27

    • Bilkul jb time hoga jarur dekhenge

      Commented by :Harendra Singh
      05-06-2020 16:59:43

    • Waiting for the movie

      Commented by :Ajay Kumar Azad
      05-06-2020 16:57:24

    • Waiting for this movie

      Commented by :Priyanshu kumar Priyadarshi
      05-06-2020 16:55:36

    • Waiting for upcoming movies

      Commented by :Avinash Kumar
      05-06-2020 16:54:10

    • Waiting for,

      Commented by :Sirajuddin Ansari
      05-06-2020 16:46:17

    • Waiting for this upcoming movie

      Commented by :BAL GANGADHAR TILAK
      05-06-2020 16:06:57

    • Load More

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends

    Special Story