कोरोना वायरस #coronavirus महिलाओं-पुरुषों में भेद क्यों करता है?

Medhaj News 1 Aug 20 , 11:22:25 India Viewed : 1533 Times
corona.png

कोविड-19 की महामारी ने ब्रिटेन के शाही घराने से लेकर भारत में ठेले पर सब्ज़ी बेचने वाले तक को अपना शिकार बनाया है | जिस पर भी इसका दांव चला उसी को लपेटे में ले लिया | लोग कहते हैं कि कोरोना वायरस किसी की जाति, धर्म या लिंग देखकर थोड़ी वार करता है | लेकिन, अब तक के आंकड़े इस दावे को ग़लत ठहरा रहे हैं | नया कोरोना वायरस अपना शिकार बनाने में भेदभाव कर रहा है | कोविड-19 की महामारी मर्दों और औरतों पर अलग-अलग तरह से प्रभाव डाल रही है | इस वायरस का पुरुषों और महिलाओं की सेहत ही नहीं, बल्कि माली हालत पर भी अलग अलग असर दिख रहा है | कोविड-19 की मृत्यु दर देखकर ही अंदाज़ा हो जाएगा कि ये वायरस लिंग भेद कर रहा है | मिसाल के लिए अमेरिका में कोविड-19 से मरने वाली महिलाओं की तुलना में पुरुषों की संख्या दो गुना है | इसी तरह पूरे पश्चिमी यूरोप में कोविड-19 से मरने वाले 69 फ़ीसद सिर्फ़ पुरुष हैं | चीन या कोरोना का प्रकोप झेलने वाले अन्य किसी देश में भी यही स्थिति है | 

कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या का ब्यौरा रखने वाली रिसर्चरों की टीम इसकी वजह तलाशने में जुटे ही | हालांकि अभी तक कोई सटीक कारण सामने नहीं आ सका है | ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर फ़िलिप गोल्डर कहते हैं कि महिलाओं में रोग प्रतिरोधक क्षमता पुरुषों की तुलना में बेहतर होती है | किसी भी वायरस को सक्रिय होने के लिए खासतौर से कोरोना वायरस के लिए जिस प्रोटीन की आवश्यकता होती है वो 'एक्स क्रोमोसोम' में होता है | महिलाओं में 'एक्स क्रोमोसोम' दो होते हैं, जबकि पुरुषों में एक होता है | इसीलिए महिलाओं में किसी भी वायरस का प्रकोप झेलने की क्षमता ज़्यादा होती है | वायरस के पुरुषों को ज़्यादा शिकार बनाने की एक वजह, ज़िंदगी जीने का सलीक़ा हो सकती है | मतलब ये कि जो लोग गुटखा, तम्बाकू या सिगरेट का सेवन करते हैं उनमें किसी भी बीमारी के पनपने की संभावना ज़्यादा होती है | सिगरेट पीने वालों के लिए तो किसी भी तरह के संक्रमण का शिकार होना बहुत ही आसान है | महिलाओं की तुलना में पुरुष सिगरेट ज़्यादा पीते हैं | चीन में 50 फ़ीसद मर्द सिगरेट पीते हैं | जबकि ऐसा करने वाली महिलाएं केवल पांच प्रतिशत हैं | फ़िलहाल महामारी के दौर में इस दावे के पक्ष में कोई सबूत नहीं है | लिहाज़ा इस दावे पर अभी मुहर नहीं लगाई जा सकती | 


    17
    0

    Comments

    • Ok

      Commented by :Ashish kumar nainital
      01-08-2020 20:27:32

    • Ok

      Commented by :Ajay Kumar Azad
      01-08-2020 20:19:17

    • Ok

      Commented by :AJEET Kumar
      01-08-2020 20:17:54

    • Women friendly hai

      Commented by :Aditya Yadav
      01-08-2020 19:09:46

    • ok

      Commented by :Sushil Kumar Gautam
      01-08-2020 17:52:47

    • Ok

      Commented by :Amit Kumar
      01-08-2020 17:32:41

    • OK

      Commented by :uday Parte
      01-08-2020 16:52:58

    • Ok

      Commented by :G. Zilani
      01-08-2020 16:49:03

    • Ok.

      Commented by :Pradeep Kumar
      01-08-2020 15:13:15

    • Purush hamesha se striyon ki apeksha kamzor rha h....sayed corona ko ye baat pta chal gai ho

      Commented by :Vivek Kumar Yadav
      01-08-2020 13:29:45

    • Ok

      Commented by :Rinku Ansari
      01-08-2020 13:17:42

    • Ok

      Commented by :Vivek Gupta
      01-08-2020 12:05:35

    • Ok

      Commented by :Rahul Kumar
      01-08-2020 11:54:41

    • Ok

      Commented by :Abhinav Kumawat
      01-08-2020 11:49:23

    • Ok

      Commented by :Brijesh Patel
      01-08-2020 11:44:09

    • Okay

      Commented by :Iqubal
      01-08-2020 11:40:51

    • Load More

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends

    Special Story