Breaking News

क्या सच में आने वाला हैं सौर तूफ़ान , जानिये इंटरनेट सर्वनाश की ये भविष्यवाणी

आखिर अचानक इस तरह की चर्चा क्यों शुरू हो गई। क्या यह सिर्फ एक भ्रम है? वॉशिंगटन पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक यह पूरी तरह काल्पनिक नहीं है। कैलिफोर्निया में यूनिवर्सिटी ऑफ कंप्यूटर साइंस की प्रोफेसर संगीता अब्दु ज्योति कहा, ‘आज हमारी दुनिया इंटरनेट से जुड़ी है। मगर इंटरनेट को क्या होने वाला है , एक विदुषी ज्योतिष कह रहे हैं की २०२५ में जब शनि अमावश्या होगी तब से कलयुग खत्म होने की शुरुआत होगी, कोई कह रहा है सोलर की आंधी आएगी। क्या सच में ऐसा होगा या होने वाला है। यह सिर्फ एक भ्रम है ? अपने जीवन काल में ऐसा कोई भी तूफ़ान नहीं देखा न ही सोलर की आंधी आदि का अनुभव नहीं है। सूर्य 2025 में अपने सोलर चक्र के चरम पर पहुंचने वाला है।

सौर तूफानों में इलेक्ट्रो मैग्नेटिक पल्स होते हैं, जो बड़े होने पर पृथ्वी पर विनाशकारी प्रभाव डाल सकते हैं। अमेरिका के नेशनल ओशेनिक एंड एटमास्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन (NOAA) के प्रवक्ता के मुताबिक, ‘सूर्य के सौर चक्रों पर नजर रखने और उनके बारे में बताने का अंदाजा मिलता है । इस दौरान एक विनाशकारी सोलर तूफान पृथ्वी से टकरा सकता है। इसके कारण इंटरनेट में खराबी हो सकती है। सौर तूफान से जुड़ा एक पेपर लिखा था, जिसका शीर्षक ‘सोलर सुपरस्टॉर्म्स: प्लानिंग फॉ एन इंटरनेट एपोक्लिप्स’ था। उनके इस पेपर में ही इंटरनेट सर्वनाश शब्द का इस्तेमाल हुआ था।

अब यह शब्द सोशल मीडिया पर बेहद पॉपुलर हो गया है।सोशल मीडिया पर इसके लिए इंटरनेट सर्वनाश जैसे शब्द इस्तेमाल किए जा रहे हैं। सौर तूफान से रेडियो ब्लैकआउट या पावर ग्रिड फेलियर हो सकता है। अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा इन अफवाहों को लेकर लगातार सूचना जारी कर रही है। हालांकि सूर्य का सोलर चक्र कुछ नया नहीं है। सूर्य के चक्र का 1755 से रिकॉर्ड रखा जा रहा है और तब से यह 25 बार हो चुका है। हालांकि विशेषज्ञ घबरा रहे हैं, क्योंकि वर्तमान का चक्र सामान्य से बहुत तेज हो गया है और पूर्वानुमान की तुलना में अधिक सनस्पॉट और विस्फोट देखे गए हैं। सोशल मीडिया पर लोग कह रहे हैं कि अगर इंटरनेट बंद हुआ तो वह क्या करेंगे? एक व्यक्ति ने लिखा, ‘अगर 2025 में एक भयानक सौर तूफान आया और इंटरनेट खत्म हो गया तब जाकर हम अपने घर से बाहर निकलेंगे।’

EK ARYA

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button