विशेष खबरउत्तर प्रदेश / यूपीभारतराज्य

जानिए क्या हैं ज्ञानवापी मामला ? और उसका विवाद, केस और दावे के बारे में

ज्ञानवापी मस्जिद इलाके में वाराणसी कोर्ट ने ASI सर्वे की इजाजत दे दी है, कोर्ट ने ये इजाजत विवादित क्षेत्र को छोड़कर पूरे क्षेत्र के सर्वेक्षण को मंजूरी दे दी। आपको बता दे इससे पहले मुस्लिम पक्ष ने इस सर्वे का विरोध किया था, जिसके बाद कोर्ट ने तमाम दलीलें सुनी इसके बाद ही सर्वे की इजाजत दी गयी ये आदेश वाराणसी जिला जज अजय कृष्ण विश्वेश ने दिया है, श्रृंगार गौरी ज्ञानवापी मामले में 14 जुलाई को वाराणसी के मस्जिद के सर्वे को लेकर सुनवाई हुई इसके बाद जिला अदालत ने फैसला सुरक्षित रख लिया।

चार महिला याचिकाकर्ताओं ने  क्षेत्र की जांच करने की मांगी अनुमति 

16 मई, 2023 को चार महिला याचिकाकर्ताओं ने एक क्षेत्र की जांच करने की अनुमति मांगी। वे ज्ञानवापी मस्जिद के उस हिस्से को छोड़कर बाकी सब कुछ देखना चाहते थे, जिसपर कोर्ट ने उनके पक्ष में फैसला सुनाते हुए उन्हें जांच करने की इजाजत दे दी थी।

अब फिर क्यों उठा ज्ञानवापी मस्जिद का विवाद?

अब फिर क्यों उठा ज्ञानवापी मस्जिद का विवाद? Medhaj News
अब फिर क्यों उठा ज्ञानवापी मस्जिद का विवाद? Medhaj News

देश में इस जगह को लेकर कई लोगो में मतभेद हो रहा है, इस विवाद को लेकर देश की राजनीति तक गरमा गई है, यह मस्जिद वाराणसी शहर में एक मंदिर के पास है। कोर्ट ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण समूह को मस्जिद की छत की जांच करने को कहा है। फिलहाल इसे लेकर कोर्ट में लड़ाई लड़ रहे हैं।

औरंगजेब ने काशीनाथ मंदिर को तोड़कर किया मस्जिद का निर्माण

कुछ लोगों ने सुप्रीम कोर्ट से स्थिति पर गौर करने को कहा है।, उन्होंने इसे लेकर वाराणसी कोर्ट में कई याचिकाएं दायर की गई हैं, उनका मानना ​​है कि बहुत समय पहले ( 16वीं सदी में ) औरंगजेब ने काशीनाथ मंदिर को नष्ट करके (उसे तोड़कर) उसकी जगह ये मस्जिद का निर्माण कराया था। जिस लेकर 1991 में, वाराणसी की अदालत में एक पुजारी ने याचिका दायर करके न्यायाधीश से पूजा करने की अनुमति की मांग की थी।

पिछले साल सर्वे के दौरान मिला शिवलिंग

Gyanvapi Masjid Case:ज्ञानवापी परिसर में सर्वे के दौरान शिवलिंग मिलने का दावा, वीडियो हुआ वायरल, मुस्लिम पक्ष बता रहा फव्वारा - During The Survey In Gyanvapi Campus ...

आपको बता दे पिछले साल कोर्ट के आदेश पर तीन दिन तक सर्वे कराया गया था, सर्वे के बाद हिंदू पक्ष ने यहां शिवलिंग मिलने का दावा किया था, जिसपर मुस्लिम पक्ष का कहा था कि वो शिवलिंग नहीं, बल्कि फव्वारा है जो हर मस्जिद में होता है, हिंदू पक्ष को ये शिवलिंग मस्जिद के वजूखाने में मिला था।

msn

Read more…. क्या सच में गायब हो जाएगा ट्विटर का पक्षी? एलन मस्क ने ट्वीट कर दिया बड़ा संकेत, होने वाले हैं, बड़े बदलाव

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button