विशेष खबर

जानिए नाग पंचमी और उसके शुभ योग, पूजा विधि, शुभ मुहूर्त और कथा के बारे मे

Know Nag Panchami is today and auspicious yoga, know about worship method, auspicious time and story

सावन का महीना हिन्दू पंचांग के अनुसार वर्ष के चार महीनों में से एक होता है और इसे धार्मिक दृष्टि से अत्यधिक महत्वपूर्ण माना जाता है। यह माना जाता है कि सावन में भगवान शिव की विशेष पूजा करने से अच्छे और शुभ फल मिलते हैं। इस महीने में कार्तिक मास के बाद भगवान शिव की पूजा का महत्व सबसे अधिक माना जाता है। सावन के महीने में भगवान शिव के भक्त सुबह सवेरे उठकर शिवलिंग की पूजा करते हैं और इसे बहुत शुभ मानते हैं। इस महीने की पहली सोमवारी को शिवलिंग की पूजा से शिवलोक प्राप्ति होती है, जिसका फलदायी माना जाता है।

नाग पंचमी एक ऐतिहासिक और धार्मिक महत्वपूर्ण दिन है जो हिन्दू पंचांग के आधार पर सावन महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाई जाती है। इस दिन नाग देवताओं की पूजा और अर्चना की जाती है, जिससे मनुष्य भयभीत नहीं होते हैं। नाग पंचमी के दिन विशेष रूप से सुबह के समय जल और दूध के मिश्रण से नाग-नागिन के जोड़े की पूजा की जाती है, जिससे मनुष्य सांपों के भय से मुक्त रह सकते हैं। इस दिन घर के दोनों ओर सांप की मूर्तियाँ बनाई जाती हैं और उनकी पूजा की जाती है।

नाग पंचमी का रिश्ता हिन्दू धर्म में अत्यधिक महत्वपूर्ण है। पुराणों के अनुसार समुद्र मंथन के समय नागराज वासुकि ने भगवान शिव की सहायता की थी और उनके साथ काम किया था। इस दिन को नाग पंचमी के नाम से जाना जाता है और यह भगवान शिव की पूजा और भक्ति के लिए समर्पित होता है।

नाग पंचमी के आगे, संक्षिप्त रूप में, इसके शुभ मुहूर्त और तारीख हैं:-

नाग पंचमी की विशेष तारीख: 21 अगस्त 2023
नाग पंचमी की शुरुआत: 21 अगस्त 2023, 12:21 बजे
नाग पंचमी की समाप्ति: 22 अगस्त 2023, 14:00 बजे

नाग पंचमी का महत्वपूर्ण संदेश है कि सांपों के प्रति आदर और श्रद्धा रखने से हम भयमुक्त और सकारात्मक जीवन जी सकते हैं। इस दिन की पूजा के साथ ही भगवान शिव की पूजा करने से मनोकामनाएं पूरी होती हैं, और यह भी बताता है कि ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पंचमी तिथि के देवता नाराज होते हैं और इस समय भगवान विष्णु विश्राम शयन पर रहते हैं।

क्या नाग पंचमी के दिन वाकई में सांपों की पूजा होती है?-

हां, नाग पंचमी के दिन भगवान शिव की पूजा के साथ-साथ नागराजों की भी पूजा की जाती है। यह एक प्राचीन परंपरागत पूजा विधि है जिसका महत्वपूर्ण संदेश है कि सांपों के प्रति आदर और श्रद्धा रखने से हम भयमुक्त और सकारात्मक जीवन जी सकते हैं।

क्या नाग पंचमी का महत्व केवल धार्मिक होता है?-

नाग पंचमी का महत्व सिर्फ धार्मिक ही नहीं है, बल्कि इसमें वैज्ञानिक भी मान्यता है। इस दिन को सांपों के प्रति आदर और श्रद्धा के रूप में मनाने से भय कम होता है और यह लोगों के मनोबल को बढ़ावा देता है।

नाग पंचमी के दिन क्या आपने व्रत रखने की परंपरा होती है?-

हां, नाग पंचमी के दिन कई लोग व्रत रखते हैं। यह एक प्राचीन परंपरागत पूजा विधि है जिसका महत्वपूर्ण संदेश है कि सांपों के प्रति आदर और श्रद्धा रखने से हम भयमुक्त और सकारात्मक जीवन जी सकते हैं।

क्या नाग पंचमी की पूजा से कालसर्प दोष को दूर किया जा सकता है?-

हां, नाग पंचमी की पूजा के द्वारा कुछ लोग कालसर्प दोष को कम करने का प्रयास करते हैं। यह माना जाता है कि इस पूजा से दोष कम हो सकता है और शुभ फल मिल सकता है।

क्या नाग पंचमी के दिन व्रत के साथ भगवान शिव की पूजा की जाए?-

हां, नाग पंचमी के दिन नाग देवताओं की पूजा के साथ-साथ भगवान शिव की पूजा भी की जाती है। इसका मतलब है कि इस दिन की पूजा से हम भगवान के प्रति अपनी भक्ति को प्रकट कर सकते हैं और उनके आशीर्वाद को प्राप्त कर सकते हैं।

नाग पंचमी के दिन कौन-कौन से नाग देवताओं की पूजा की जाती है?-

नाग पंचमी के दिन विभिन्न नाग देवताओं की पूजा की जाती है जैसे कि वासुकी, कालिया, शेषनाग, ककोटक, मणिभद्रक, धृतराष्ट्र, शंखपाल, तक्षक आदि। इनकी पूजा से परिवार में सर्प भय से मुक्ति मिलती है और ज्योतिष में दोषों को कम करने का मान्यता है।

नाग पंचमी के दिन पूजा की विशेष विधि क्या होती है?-

नाग पंचमी के दिन कुछ विशेष पूजा विधियाँ होती हैं जो उस दिन का विशेषता को दर्शाती हैं। कुछ प्रमुख पूजा विधियाँ निम्नलिखित हैं:

1-नाग पंचमी से एक दिन पहले चतुर्थी को केवल एक बार भोजन करें।
2-नाग पंचमी के दिन सुबह जल्दी उठकर घर की साफ-सफाई करें, इसके बाद स्नान करके साफ कपड़े पहनें और व्रत का संकल्प लें।
3-नाग पंचमी के दिन अपने घर के दरवाजे के दोनों ओर गाय के गोबर से नाग की मूर्तियाँ बनाएं।
4-नाग को दही, दूर्वा, कुशा, अक्षत, फूल और मोदक से पूजा करें।
5-एक बर्तन में दूध में चीनी मिलाकर नाग देवता को अर्पित करें।
6-इस दिन ब्राह्मण को भोजन कराएं और व्रत रखें, ऐसा करने से घर में सांप का भय नहीं रहता।
7-सांप को दूध से नहलाएं।
8-पूजा करने के बाद किसी सपेरे को कुछ दक्षिणा दें।

Read More..

गुस्से में भी सही शब्द दूरियों को कम कर देते हैं

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button