दुनिया

लीबिया की विदेश मंत्री नजला अल-मंगौश बर्खास्त: सूत्र

लीबिया की सरकार के वरिष्ठ सूत्रों के अनुसार, लीबिया की विदेश मंत्री नजला अल-मंगौश, जो अपने इजरायली समकक्ष के साथ मुलाकात के लिए आलोचना झेल रही थीं, को बर्खास्त कर दिया गया है।

त्रिपोली से रिपोर्ट करते हुए, अल जज़ीरा के मलिक ट्रेना ने कहा कि प्रधान मंत्री अब्दुल हामिद दबीबा के करीबी सूत्रों ने रोम में पिछले हफ्ते इजरायली विदेश मंत्री एली कोहेन के साथ उनकी मुलाकात की जांच की पूर्व घोषणा के बाद अल-मंगौश की बर्खास्तगी की सूचना दी।

कोहेन की कल की घोषणा के बाद से अल-मंगौश काफी अटकलों का विषय बामी हुई हैं । पूरे लीबिया में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए और यह अफवाहें भी चल थीं कि उन्होंने देश छोड़ दिया है।

लीबिया की आंतरिक सुरक्षा सेवा ने उन रिपोर्टों कि उसने नजला अल-मंगौश के प्रस्थान की अनुमति दी थी या सुविधा प्रदान की थी का खंडन करते हुए जवाब दिया कि वे यात्रा से प्रतिबंधित लोगों की सूची में थी।
राजनीतिक विवाद रविवार को तब शुरू हुआ जब इजराइल के विदेश मंत्रालय ने कहा कि दोनों देशों के शीर्ष राजनयिक पिछले सप्ताह इटली के विदेश मंत्री एंटोनियो तजानी की मेजबानी में हुई बैठक में मिले थे।

इजराइल के विदेश मंत्री एली कोहेन ने इजराइल के विदेश मंत्रालय के एक बयान में कहा, “मैंने विदेश मंत्री से दोनों देशों के संबंधों की महान संभावनाओं के बारे में बात की।” उन्होंने कहा कि यह दोनों देशों के बीच इस तरह की पहली राजनयिक पहल थी।

इस खबर को इज़राइल में अच्छी प्रतिक्रिया नहीं मिली। टिप्पणीकारों ने टिप्पणी की कि कोहेन का व्यवहार स्वीकार्य राजनयिक तौर तरीकों का उल्लंघन था।

इज़राइल के चैनल 12 ने टिप्पणी की कि कोहेन की घोषणा ने इज़राइल की विश्वसनीयता को गंभीर रूप से नुकसान पहुँचाया है।

विपक्षी राजनेता येयर लैपिड ने एक्स पर सहमति व्यक्त करते हुए कहा कि कोहेन के इस कदम से देशों को विदेशी संबंध भागीदार के रूप में इज़राइल की उपयुक्तता पर संदेह किया है।

“दुनिया के देश आज सुबह इज़रायली और लीबिया के विदेश मंत्री की बैठक के गैर-जिम्मेदाराना लीक को देख रहे हैं और खुद से पूछ रहे हैं: क्या इस देश के साथ विदेशी संबंधों का प्रबंधन करना संभव है? क्या इस देश पर भरोसा करना संभव है?” लैपिड ने एक बयान में कहा।

इज़राइल ने हाल के वर्षों में अमेरिका समर्थित सौदों के तहत कुछ अरब देशों के साथ संबंधों को सामान्य किया है जिन्हें अब्राहम समझौते के रूप में जाना जाता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button