प्रदोष व्रत में पूजा करने की सही विधि जाने ताकि बरसे भोलेनाथ की कृपा..

Medhaj News 24 Nov 19,00:14:17 , Lifestyle Viewed : 171 Times
guru_pradosh.png

प्रदोष व्रत 24 नवंबर यानी कि रविवार को मनाया जाएगा | मान्यता है कि इस व्रत को लोग भगवान शिव का आशीर्वाद पाने के लिए करते हैं | यह भी माना जाता है कि इस व्रत को करने से भगवान शिव व्रती भक्त की सभी प्रकार की परेशानियों का हरण कर लेते हैं | प्रदोष व्रत के दिन भक्तजन माता पार्वती और भगवान शिव की आराधना करते हैं | ऐसी मान्यता है कि इस दिन जो भी भक्त ये व्रत करता है उसे किसी ब्राह्मण को गोदान (गाय का दान) करने के समान पुण्य लाभ होता है | आइए जानते हैं प्रदोष व्रत में पूजा करने की सही विधि ताकि बरसे भोलेनाथ की कृपा..

1. प्रदोष व्रत करने वाले व्रती को इस दिन सुबह सूर्योदय से पहले उठ जाना चाहिए |
2.इसके बाद नहा-धोकर पूरे विधि-विधान के साथ भगवान शिव का भजन कीर्तन और पूजा-पाठ करना चाहिए |
3.इसके बाद पूजाघर में झाड़ू-पोछा कर पूजाघर समेत पूरे घर में गंगाजल से पवित्रीकरण करना चाहिए | इसके बाद पूजाघर को गाय के गोबर से लीपना चाहिए |
4. केले के पत्तों और रेशमी वस्त्रों की सहायता से एक मंडप तैयार करना चाहिए |
5. चाहें तो आटे, हल्दी और रंगों की सहायता से पूजाघर में एक अल्पना (रंगोली) बना लें |
6. इसके बाद साधक (व्रती) को कुश के आसन पर बैठ कर उत्तर-पूर्व की दिशा में मुंह करके भगवान शिव की पूजा-अर्चना करनी चाहिए |
7.व्रती को पूजा के समय 'ॐ नमः शिवाय' और शिवलिंग पर दूध, जल और बेलपत्र अर्पित करना चाहिए |

    मेधज न्यूज़ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक करें। आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

    ...

    Similar Post You May Like

    Trends

    Special Story