शेयर बाजार

बीएसई सेंसेक्स में गिरावट के चलते बाजार में उतार-चढ़ाव

इस लेख में हम बीएसई सेंसेक्स के बाजार में हुई गतिविधियों पर चर्चा करेंगे। यह लेख बाजार के विभिन्न सेक्टरों की स्थिति, विदेशी मुद्रा की स्थिति, तेल के दामों का प्रभाव, और विभिन्न बड़ी कंपनियों के शेयरों के विवरण पर जिक्र करेगा। इसके अलावा, हम नीचे 5 अद्भुत पूछे जाने वाले प्रश्नों को उत्तर देंगे।

आरंभिक गतिविधि

आज सुबह 9.24 बजे, बीएसई सेंसेक्स 66,055 पॉइंट्स या 0.32% कम था। इसके साथ ही, निफ्टी50 लगभग 9.24 बजे 19,619 पर 41 पॉइंट्स या 0.21% नीचे था।

सेंसेक्स पैक में गतिविधि

इसे देखते हुए, एक्सिस बैंक, एनटीपीसी, सन फार्मा, टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, और टेक महिंद्रा ने कटौती के साथ खुलासा किया, जबकि बजाज फाइनेंस, एम एंड एम, आईटीसी, विप्रो, इंफोसिस, और हिंदुस्तान यूनिलीवर ने गुनगान के साथ खुलासा किया।

व्यक्तिगत शेयरों में गतिविधि

जेके लक्ष्मी सीमेंट के शेयर 4% नीचे खुले, क्योंकि कंपनी ने पहले तिमाही में लाभ में 29% की गिरावट की रिपोर्ट की। भारत इलेक्ट्रॉनिक्स (बीईएल) के शेयर 3% से ज्यादा ऊपर खुले, क्योंकि फर्म ने पहले तिमाही में रुपये 531 करोड़ के नेट लाभ में 23% की वृद्धि की।

सेक्टरीय फ्रंट पर गतिविधि

फाइनेंशियल सर्विसेज में 0.69% और बैंकिंग में 0.54% की कमी हुई। जबकि एफएमसीजी, मीडिया, फार्मा, रियल्टी, कंस्यूमर ड्यूरेबल्स, और हेल्थकेयर सेक्टर में गुनगान हुआ। व्यापक बाजार में, निफ्टी मिडकैप 100 फ्लैट खुला, जबकि निफ्टी स्मॉलकैप 100 में 0.18% की बढ़ोतरी हुई।

तेल के दामों की गिरावट

तेल के दाम शुक्रवार को एशियाई व्यापार में थोकबाजी कर रहे थे, लेकिन OPEC+ आउटपुट कटौती और संभावित चीनी प्रोत्साहन उपायों के चलते वे पांचवीं सीधी सप्ताह की गिरावट के लिए तैयार थे।

रुपया की कमजोरी

अमेरिकी ग्रॉस डोमेस्टिक उत्पादन के बेहतर-से-बेहतर रिडिंग और यूरो में तेजी के चलते भारतीय रुपया सुबह के व्यापार में डॉलर के साथ 28 पैसे की गिरावट की। इसके परिणामस्वरूप डॉलर इंडेक्स में चार महीने से अधिक समय की सबसे बड़ी रैली शुरू हुई।

निष्कर्ष

बीएसई सेंसेक्स के आँकड़ों में आज की गिरावट ने बाजार में उतार-चढ़ाव को देखा गया। कुछ सेक्टरों में गिरावट और कुछ सेक्टरों में गुनगान दिखाई दी। तेल के दामों की गिरावट ने भी बाजार में असर डाला। विदेशी मुद्रा की स्थिति भी बाजार पर अपना प्रभाव डाली।

अद्भुत पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

बीएसई सेंसेक्स क्या है और यह भारतीय बाजार में किस तरह दिखाई देता है?

बीएसई सेंसेक्स भारतीय स्टॉक बाजार का एक मुख्य सूचकांक है जो भारतीय शेयर बाजार की गतिविधियों को प्रतिनिधित्व करता है। इसमें शेयरों की मूल्यों में होने वाली तेजी या मंदी की गतिविधियां दिखाई जाती हैं।

Nifty50 किसे कहते हैं?

Nifty50 एक और प्रमुख सूचकांक है जो भारतीय शेयर बाजार के शीर्ष 50 कंपनियों की मौजूदा स्थिति को प्रदर्शित करता है। इसमें संशोधित मुल्य या अंश निष्पादित मूल्य (free-float market capitalization) के आधार पर कंपनियों का चयन किया जाता है।

OPEC+ क्या है?

OPEC+ पेट्रोलियम निर्यात और उत्पादन संगठन (OPEC) और अन्य अनुसंधान करने वाले देशों का संयुक्त समूह है जो कटौती के माध्यम से पेट्रोलियम उत्पादन को नियंत्रित करता है।

भारतीय रुपया क्यों महत्वपूर्ण है?

भारतीय रुपया भारत की मुद्रा है और भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए एक महत्वपूर्ण दायरा है। यह भारतीय विदेशी व्यापार और आर्थिक गतिविधियों में प्रयोग होता है।

तेल के दामों में इस वक्त क्यों गिरावट आई है?

तेल के दामों में इस वक्त की गिरावट एशियाई व्यापार में होने वाली थोकबाजी के कारण हुई है। इसके अलावा, OPEC+ ने उत्पादन कटौती का फैसला लिया है, जिससे इसके दामों में संशय बना है। चीनी प्रोत्साहन उपायों की संभावना भी तेल के दामों पर असर डाली है।

बीएसई सेंसेक्स और Nifty50 में क्या अंतर है?

बीएसई सेंसेक्स और Nifty50 दोनों भारतीय शेयर बाजार के मुख्य सूचकांक हैं, लेकिन उनमें कुछ अंतर है। बीएसई सेंसेक्स शेयरों के मूल्यों में वृद्धि और कटौती की गतिविधियों को प्रदर्शित करता है, जबकि Nifty50 शीर्ष 50 कंपनियों की मौजूदा स्थिति को दिखाता है।

Read more…. बीएसई सेंसेक्स और एनएसई निफ्टी में तेजी के साथ बदलते भारतीय शेयर बाजार का माहौल

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button