उत्तर प्रदेश / यूपीराज्य

सघन मिशन इंद्रधनुष (आई0एम0आई0) 5.0 के शुभारम्भ पर मीडिया कार्यशाला आयोजित

सघन मिशन इंद्रधनुष (आई0एम0आई0) 5.0 उत्तर प्रदेश में 7 अगस्त, 2023 को लॉन्च किया जाएगा। यह अभियान राज्य के सभी 75 जिलों में तीन चरणों (7-12 अगस्त), (11-16 सितंबर) और (9-14 अक्टूबर) 2023 में आयोजित किया जाएगा।

इस अभियान के तहत टीकाकरण कवरेज के प्रतिशत को बढ़ाने के लिए 0-5 वर्ष तक की आयु के बच्चों के लिए सभी छः कार्य दिवसों पर टीकाकरण किया जाएगा। आई0एम0आई0-5.0 के लॉन्च और जन-जागृति लाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, उत्तर प्रदेश और स्वयंसेवी संगठन यूनिसेफ के सहयोग से रविवार 06-08-2023 को राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन कार्यालय, 16-ए0पी0 सेन मार्ग, चारबाग, लखनऊ में मिशन निदेशक, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन डॉ0 पिंकी जोवल, आई0ए0एस0 की अध्यक्षता में मीडिया कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में प्रभारी महानिदेशक परिवार कल्याण डा0 शालिनी गुप्ता, डा0 संदीपा श्रीवास्तव, अपर निदेशक, यू0आई0पी0, राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ0 अजय कुमार गुप्ता, और महाप्रबंधक नियमित टीकाकरण, डॉ0 मनोज कुमार शुक्ल ने प्रतिभाग किया।

आज की मीडिया कार्यशाला में वार्ता करते हुए मिशन निदेशक, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, उत्तर प्रदेश डॉ0 पिंकी जोवल ने मीडिया की सक्रिय भागीदारी का आहवान करते हुए कहा कि सघन मिशन इन्द्रधनुष-5.0 में प्रत्येक बच्चे को जीवन रक्षक टीके मिले , इसके लिए 5 वर्ष की आयु तक के टीकाकरण से वंचित बच्चों को समस्त ड्यू खुराकें देनें और लक्षित गर्भवती महिलाओं को लक्ष्य में शामिल किया गया है। मिजिल्स रूबेला उन्मूलन के दृष्टिगत विशेष रूप से एम0आर0-1 एवं 2 के साथ ही पी0सी0वी0, एफ0आई0पी0वी0-3 डी0पी0टी0-1 बूस्टर एवं डी0पी0टी0-5 वर्ष एवं टी0डी0 10/16 खुराक के कवरेज में सुधार पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।

इस पहल का लक्ष्य दिसंबर 2023 तक देश के खसरा रूबेला उन्मूलन के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए उत्तर प्रदेश के प्रत्येक जिले में खसरा और रूबेला युक्त वैक्सीन (एम0आर0सी0वी0) की दो खुराक का 95 प्रतिशत टीकाकरण कवरेज प्राप्त करना है। शहरी क्षेत्रों में टीकाकरण के स्तर में कमी को पूरा करने के लिए सभी जिला चिकित्सालयों, सरकारी शहरी सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर दैनिक टीकाकरण की सुविधा भी शुरू की गई है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा दिए जा रहे निःशुल्क टीकाकरण से किसी भी परिवार में मात्र एक बच्चे के लिए टीकाकरण कराने पर औसतन 15 से 20 हजार रूपये की आर्थिक बचत के साथ ही बच्चों के स्वास्थ्य, पोषण एवं उनकी उत्पादकता में सुधार होता है। उत्तर प्रदेश सरकार उन छूटे हुए या आंशिक रूप से प्रतिरक्षित बच्चों का टीकाकरण करने के लिए निरंतर प्रयास कर रहा है, जो कोविड महामारी के दौरान टीकाकरण से चूक गए थे। छूटे हुए बच्चों को कवर करने के लिए जनवरी, फरवरी और मार्च 2023 में राज्य भर में विशेष टीकाकरण अभियान आयोजित किए गए।

कार्यशाला के दौरान अवगत कराया गया कि नियमित टीकाकरण कार्यक्रम के अन्तर्गत बाल मृत्यु-दर को कम करने के उद्देश्य से बच्चों को विभिन्न संक्रमणों एवं जानलेवा बीमारियों से बचाव हेतु विभिन्न प्रकार के टीकों से आच्छादित किया जाता है। प्रदेश के समस्त जनपदंों में आई0एम0आई0-5.0 के आयोजन से पूर्व समस्त ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में टीकाकरण से छूटे हुए 0-5 साल तक के बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं के चिन्हीकरण हेतु आशा/लिंक वर्कर द्वारा घर-घर भ्रमण कर 2.32 करोड बच्चों तथा 3.88 लाख गर्भवती महिलाओं से सम्बन्धित सूचना निर्धारित प्रपत्र पर अंकित किया गया। आशा द्वारा एवं ऐसे क्षेत्र जहां आशा के पद रिक्त हैं, में लिंक वर्कर द्वारा निर्धारित प्रपत्र पर सर्वे करते हुए आई0एम0आई0-5.0 सत्रों को नियोजित करने के लिए ए0एन0एम0 के माध्यम से ब्लॉक स्तर पर सूचनाएं प्रेषित की जाएंगी। ब्लॉक स्तर पर संकलित सूचना के आधार पर आई0एम0आई0-5.0 हेतु कार्ययोजना तैयार की गयी हैं।

कार्ययोजना तैयार करते समय ऐसे पुरवे, मजरे, टोले, मोहल्ले, ईट-भट्टे, घुमन्तू/प्रवासी बाहुल्य क्षेत्र/अन्य स्थान जहां पर छूटे हुए बच्चों की संख्या अधिक है, में अभियान के दौरान विशेष रूप से टीकाकरण सत्र आयोजित किये जा रहे हैं। आई0एम0आई0-3.0 और आईएमआई 4.0 के पिछले दौर ने भारत को 2021 और 2022 में टीकाकरण कवरेज में महत्वपूर्ण प्रगति करने में मदद की है। जैसा कि राष्ट्रीय टीकाकरण कवरेज (डब्ल्यूयूएनआईसी) रिपोर्ट के नवीनतम डब्ल्यू0एच0ओ0 और यूनिसेफ अनुमानों से पता चला है। देश ने 2021 में शून्य खुराक वाले बच्चों की संख्या को 2.7 मिलियन से सफलतापूर्वक घटाकर 1.1 मिलियन कर लिया है। यह उपलब्धि भारत को विश्व स्तर पर वैक्सीन के प्रति सबसे अधिक विश्वास वाले देशों में रखते हुए टीकाकरण के प्रति देश की अटूट प्रतिबद्धता को भी उजागर करती है।

आई0एम0आई0-5.0 अभियान हेतु कार्य योजना के संबंध में राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी डा0 अजय कुमार गुप्ता ने कहा कि बुधवार एवं शनिवार को नियमित टीकाकरण सत्र निर्धारित माइक्रोप्लान के अनुसार यथावत् संचालित होंगे। दिनांक 07-12 अगस्त, 11-16 सितम्बर एवं 9-14 अक्टूबर, 2023 के मध्य सप्ताह के शेष दिवसों में अप्रतिरक्षित बच्चों की सूची के आधार पर आई0एम0आई0-5.0 अभियान के सत्र आयोजित किए जाएंगे। जनपदों को यह भी सुनिश्चित करने को निर्देशित किया गया है कि अभियान के दौरान स्थानीय अवकाश अथवा किसी अन्य राष्ट्रीय कार्यक्रम के संचालन के फलस्वरूप टीकाकरण कार्यक्रम बाधित होने की दशा में अग्रेतर दिवसों पर टीकाकरण सत्रों का आयोजन कर आई0एम0आई0-5.0 के समस्त नियोजित सत्रों का सम्पादन सुनिश्चित किया जाएगा। इस अभियान की तैयारियों की समीक्षा राष्ट्रीय स्तर के पर्यवेक्षकों द्वारा की जा चुकी है।

31 उच्च प्राथमिकता वाले जनपदों में टीकाकरण की प्रगति की जांच के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त किये गए हैं। प्रदेश के 10 जनपदों में राष्ट्रीय स्तर से पर्यवेक्षक आकर टीकाकरण की स्थिति परखेंगे. टीकाकरण की दर बढाने के लिए जिलाधिकारियों, मुख्य चिकित्सा अधिकारियों, धर्मगुरुओं, फिल्मी सितारों और समाज में प्रभावशाली लोगों द्वारा अपील जारी की गयी हैं। टीकाकरण के प्रति उदासीनता दिखाने वाले वाले लगभग 01 लाख परिवारों को यूनिसेफ, कोर, आशाओं और धर्मगुरुओं के सहयोग से प्रेरित कर टीकाकरण के इस महा-अभियान में शामिल करने का प्रयास किया जा रहा है।

आई0एम0आई0-5.0 हेतु राज्य में 1,305 कोल्ड चेन प्वाइंट पर पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन उपलब्ध है। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी के समन्वय से अभियान की तैयारियों की समीक्षा हेतु जिलाधिकारी की अध्यक्षता में डी0टी0एफ0 का आयोजन, जनपद/ब्लाक स्तरीय संवेदीकरण कार्यशालाएं, आशाओं व लिंक वर्कर द्वारा गर्भवती महिलाओं एवं 5 वर्ष से कम आयु के बच्चों का निर्धारित प्रारूप एवं ई-कवच पर सर्वे अपडेशन, शहरी प्लानिंग यूनिट्स एवं ब्लाक प्रभारी चिकित्साधिकारी द्वारा आई0एम0आई0 5.0 अभियान के सत्रों हेतु मइक्रोप्लानिंग ,का कार्य किया जा चुका है। प्रशिक्षित ए0एन0एम0 द्वारा आई0एम0आई0-5.0 के दौरान पूरे उत्तर प्रदेश में 1.25 लाख से अधिक टीकाकरण सत्रों की योजना बनाई गई है। अभियान का लक्ष्य 12.74 लाख बकाया लाभार्थियों को लक्षित करना है।

मिशन निदेशक महोदया ने अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं ए0एन0एम0, आशा एवं आंगनबाड़ी द्वारा एक स्वास्थ्य योद्धा के रूप में कार्य करते हुए उनके द्वारा प्रदेश के सभी नागरिकों की स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए किए जा रहे कार्यों की सराहना की। उन्होंने लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ मीडिया के प्रिंट, इलेक्ट्रानिक एवं सोशल मीडिया से जुड़े पत्रकार बन्धुओं एवं छायाकारों को भी प्रदेश के विकास एवं टीकाकरण अभियान में एक योद्धा के रूप में योगदान देने की अपील की। आग्रह किया कि भारत के विश्व गुरू बनने के लिए उत्तर प्रदेश का योगदान आवश्यक है। उत्तर प्रदेश के स्वस्थ्य बच्चे ही आने वाले भारत का भविष्य हैं। अतः हमें इस अभियान को एक सुअवसर के रूप में लेना होगा। निश्चित ही सफल टीकाकरण कार्यक्रम प्रदेश के भविष्य को सुरक्षित रखने में कारगर सिद्ध होगा।

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करेंः

1. डॉ0 अजय गुप्ता (राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी, उत्तर प्रदेश) 8004387950
2. डॉ0 मनोज कुमार शुक्ला (महाप्रबंधक नियमित टीकाकरण, उत्तर प्रदेश) 9415004437
3. टोल फ्री नम्बर- 104

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button