राज्यउत्तर प्रदेश / यूपी

उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग एवं श्री पाण्डुरंग राव तावड़े प्रबंध निदेशक एग्रीकल्चर टूरिज्म डेवलपमेंट कम्पनी प्रा0लि0 पुणे के मध्य एमओयू हस्ताक्षरित

उत्तर प्रदेश के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जयवीर सिंह की उपस्थिति में कल पर्यटन भवन में उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग एवं श्री पाण्डुरंग राव तावड़े प्रबंध निदेशक एग्रीकल्चर टूरिज्म डेवलपमेंट कम्पनी प्रा0लि0 पुणे के मध्य एमओयू हस्ताक्षरित किया गया। पर्यटन मंत्री ने कहा कि एग्रो टूरिज्म के लिए कार्य कर रहे पाण्डुरंग राव तावड़े जी ग्रामीण पर्यटन को बढ़ावा देने के क्षेत्र में निरन्तर कार्य कर रहे हैं। टूरिज्म के क्षेत्र में सबसे कम इन्वेस्टमेंट में ज्यादा रोजगार मिलता है। प्रदेश में कृषि के साथ निष्ठा एवं ईमानदारी से काम करने की आवश्यकता है। जिसमें पर्यटन विभाग अब कार्य प्रारम्भ कर दिया। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश टूरिज्म विभाग एवं महाराष्ट्र में कार्यरत पाण्डुरंग एग्रीकल्चर टूरिज्म डेवलपमेंट कम्पनी मिलकर कार्य करेंगे, जिससे ग्रामीण पर्यटन का विकास तेजी से होगा। तथा प्रदेश के प्रत्येक ब्लाक तक पहुंचने के साथ गांव-गांव में जाने की कार्ययोजना बनायी जायेगी।

पर्यटन मंत्री ने कहा कि जिला पर्यटन परिषद में सभी जनपदों के अधिकारी जुड़े हुए हैं। सभी के माध्यम से गांवों का चयन किया जाय जहां पर पुरानी हवेली, किले एवं वन क्षेत्र, कृषि योग्य जमीन का चयन किया जाय। जिसमें पर्यटन विभाग लोगों को सब्सिडी भी देने का कार्य कर रहा है। अच्छे लोगों का चयन करते हुए इसको आगे बढ़ाया जाय।

उन्होंने कहा कि शहर के लोगों को गांव से जोड़ने का कार्य किया जाय। जिसमें लोगों की रूचि ग्रामीण पर्यटन में बढ़ेगा। लोग शहर से गांवों में आएंगे वहां कृषि के बारे में जानकारी मिलेगी और उनकी जिज्ञासा पूरी होगी। साथ ही बेरोजगारों को रोजगार का अवसर मिलेगा एवं रूलर क्रांति के क्षेत्र में यह समझौता मील का पत्थर साबित होगा। इससे व्यापार एवं रोजगार दोनों को बढ़ावा मिलेगा। इससे सामाजिक क्रान्ति, ग्रामीण क्रान्ति, शुद्ध अनाज एवं शुद्ध पर्यावरण मिल सकेगा एवं गांव से शहरों में होने वाला पलायन कम होगा क्योंकि गांव में ही लोगों को कार्य के अवसर उपलब्ध होंगे।

पर्यटन प्रमुख सचिव मुकेश मेश्राम ने कहा कि जिला पर्यटन एवं संस्कृति परिषद के बीच में जिला स्तर तक पहुंचाने का कार्य किया जायेगा। गांव-गांव में फिल्म दिखाना और इस योजना का लाभ ज्यादा से ज्यादा लोगों को मिले इस क्षेत्र में कार्य किया जायेगा। उन्होंने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव काल में मेरी माटी-मेरा देश के तर्ज पर एग्रो टूरिज्म को महाराष्ट्र से प्रारम्भ किया गया है। साथ में निदेशक पर्यटन प्रखर मिश्रा एवं अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button