रोमांस, एक्शन और कॉमेडी का ज़बरदस्त मिश्रण एक ही फ़िल्म खाली पीली में

Medhaj News 4 Oct 20 , 14:05:15 Movies Review Viewed : 891 Times
film.jpg

भारत में हर साल यहां जितनी फ़िल्में बनाई जाती हैं, उतनी दुनिया के किसी भी देश में नहीं बनाई जातीं | ऐसा इसलिए है कि यहां हमेशा से हर प्रकार की फिल्मों की भारी डिमांड रही है | हां, वक़्त के साथ लोगों की पसंद-नापसंद में थोड़ा फर्क ज़रूर आया है | मिसाल के तौर पर अब लोग मनोरंजक फिल्मों के अलावा गंभीर विषयों पर बनी फ़िल्में देखना भी काफी पसंद करते हैं | इसके बावजूद कई बार ऐसा मन करता है कि कोई ऐसी मज़ेदार फिल्म देखी जाए जिसमें मनोरंजन कूट-कूट कर भरा हो और जिसे देखते समय ज़्यादा दिमाग ना लगाना पड़े | ऐसी ही एक मसाला एंटरटेनर आज ZeePlex पर रिलीज़ की गयी है जिसका नाम है 'खाली पीली' | विजय उर्फ़ ब्लैकी (ईशान खट्टर) एक तेज़-तर्रार टैक्सी ड्राइवर है जो ज़रूरत पड़ने पर मार-पीट करने से भी पीछे नहीं हटता | बचपन में विजय अपने डरपोक बाप के साथ मिलकर लोगों को खूब चूना लगाया करता था | लेकिन एक दिन जब पुलिस मौका-ए-वारदात पर पहुंच जाती है, तो ये नन्हा सा बालक बन्दूक की नोक पर वहां से फरार हो जाता है और जा कर रुकता है सीधा मुंबई | वहां उसकी मुलाक़ात होती है यूसुफ़ चिकना (जयदीप अहलावत) से | यूसुफ़ एक क्रूर अपराधी है जो ना जाने कितनी ही मासूम लड़कियों को जिस्मफरोशी के धंधे में धकेल चुका है | उसकी सरपरस्ती में विजय सिनेमाघरों के बाहर ब्लैक में टिकेटें बेचना शुरू कर देता है और वहीं से उसका नाम ब्लैकी पड़ जाता है | 

एक दिन टिकट बेचते बेचते ब्लैकी की मुलाक़ात पूजा से होती है और वो उसे पसंद करने लगता है | लेकिन इससे पहले बचपन का ये प्यार उड़ान ले पाता, एक अमीर सेठ यूसुफ से पूजा को खरीद लेता है और वो ब्लैकी की ज़िन्दगी से गायब हो जाती है | लेकिन उनकी कहानी यहां ख़त्म नहीं होती | कई सालों बाद पूजा (अनन्या पांडे) अपने अठारहवें जन्मदिन पर ढेर सारे पैसे और ज्वेलरी से भरा बैग ले कर यूसुफ के चंगुल से भाग जाती है | यूसुफ के आदमियों से पीछा छुड़ाने के लिए पूजा ब्लैकी की काली-पीली टैक्सी में कूद जाती है | हालाँकि उस वक़्त दोनों एक दूसरे को पहचान नहीं पाते, ब्लैकी एक शर्त पर पूजा को आज़ादी दिलाने का वादा करता है - पूजा को बैग में रखे पैसे और ज्वेलरी का आधा हिस्सा ब्लैकी को देना होगा | तो क्या ब्लैकी अपना वादा निभा पाएगा? क्या पुलिस और यूसुफ के गुंडे उन्हें पकड़ने में कामयाब होंगे? इन सवालों के जवाब तो आपको फिल्म देख कर ही मिलेंगे | ईशान खट्टर ब्लैकी के रोल में काफी जंचे हैं |  फिर भले ही वो उनका टपोरी अंदाज़ हो, या बोल-चाल का तरीका, सब कुछ हूबहू मुंबई के टैक्सी चालकों जैसा है | अपने ज़बरदस्त अभिनय और चॉकलेटी चेहरे के चलते ईशान ने अपनी भूमिका में जान फूँक दी है | वहीं अनन्या पांडे ने 'खाली पीली' में अभी तक के अपने करियर का सबसे बेहतरीन अभिनय किया है |  अपने इंटेंस अभिनय के लिए मशहूर अभिनेता जयदीप अहलावत यहां भी फुल फॉर्म में दिखे हैं | एक खूंखार विलेन के रूप में लम्बे-चौड़े जयदीप काफी खतरनाक लगे हैं | साथ ही फिल्म में सतीश कौशिक, ज़ाकिर हुसैन, अनूप सोनी और स्वानंद किरकिरे ने भी ज़रूरी भूमिकाएं निभाई हैं | 

'खाली पीली' निर्देशक मक़बूल खान की पहली फिल्म है, लेकिन फिल्म देख कर ऐसा बिलकुल भी नहीं लगता | यह फिल्म उन्होंने काफी आत्मविश्वास के साथ बनाई है और उनकी प्रतिभा हर सीन में साफ़ दिखाई पड़ती है | फिल्म की स्क्रिप्ट शुरुआत से लेकर आखिर तक काफी टाइट है, जिसके चलते आप एक सेकंड के लिए भी बोर नहीं होंगे | खाली पीली' केवल ZeePlex पर देखी जा सकती है | ये फिल्म वहां पे-पर-व्यू पर 299 रूपये में उपलब्ध है | एक बार ये फिल्म खरीदने के बाद आप अगले 6 घंटे में ये फिल्म कभी भी देख सकते हैं |   



 


    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends

    Special Story