यात्रामनोरंजन

सीतापुर, अत्यन्त पावन एवं प्राचीन तीर्थ स्थल

नैमिषारण्य, जो कि नीमसार के नाम से भी जाना जाता है, उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले में स्थित है। यह स्थल हिंदू धर्म के एक प्रमुख तीर्थ स्थल में से एक है और भारतीय सांस्कृतिक धरोहर का महत्वपूर्ण हिस्सा है।

पौराणिक महत्व

नैमिषारण्य को एक विशेष महत्व दिया जाता है ऐसा माना जाता है कि यह वह स्थान है जहां 88000 ऋषियों ने भगवान की पूजा की और एक ही समय में तपस्या की। एक पौराणिक कथा के अनुसार, यहां पर भगवान ब्रह्मा के चक्र ने पृथ्वी में एक छिद्र बनाया था, जिससे एक विशाल जल कुंड का निर्माण हुआ। इस कुंड के पानी में एक पवित्र डुबकी मन, शरीर और आत्मा को पवित्र करती है।

नैमिषारण्य का इतिहास

नैमिषारण्य का इतिहास बहुत ही गहरा है और इसे पुरानी संस्कृति के महत्वपूर्ण पात्रों से जोड़ा जाता है। लोककथाओं के अनुसार, एक बार तपस्या करते समय ऋषि असुरों से परेशान थे। ऋषि भगवान ब्रह्मा के पास पहुंचे जिन्होंने सूर्य की किरणों से एक चक्र बनाया। उन्होंने ऋषियों को चक्र के रुकने तक उसका अनुसरण करने को कहा। भगवान ब्रह्मा के अनुसार, चक्र जहां भी रुकता, ऋषि वहां शांति से रह सकते थे। चक्रतीर्थ को वह स्थान कहा जाता है जहां पवित्र चक्र ने विश्राम किया और वहां पर पानी का एक बड़ा कुंड बन गया।

नैमिषारण्य का महत्व

नैमिषारण्य को नीमसार के नाम से भी जाना जाता है। यहाँ पर एक प्राचीन हिंदू मंदिर है जो भगवान विष्णु को समर्पित है। यह दिव्य देशमों में से एक है, विष्णु के 108 मंदिरों में नलयिर दिव्य प्रबंधम में पूजनीय है। माना जाता है कि अलग-अलग समय में शासक राजाओं का इस मंदिर के विकास में महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

नैमिषारण्य क्यों महत्वपूर्ण है?

नैमिषारण्य हिंदू धर्म के एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल के रूप में महत्वपूर्ण है, और यहाँ के पवित्र स्थल और मंदिर हमें धार्मिक और आध्यात्मिक दृष्टि से प्रेरित करते हैं।

क्या नैमिषारण्य एक प्राचीन स्थल है?

हां, नैमिषारण्य एक प्राचीन स्थल है और इसका इतिहास हिंदू पौराणिक कथाओं में महत्वपूर्ण है।

क्या यहाँ के पानी का आध्यात्मिक महत्व है?

हां, यहाँ के पानी का मान, शरीर, और आत्मा को पवित्र करने का आध्यात्मिक महत्व है, और यह एक पवित्र कुंड के रूप में माना जाता है।

नैमिषारण्य के आसपास कौन-कौन से पवित्र स्थल हैं?

नैमिषारण्य के आसपास कई पवित्र स्थल हैं, जैसे कि ललिता देवी मंदिर, व्यास गद्दी, सूत गद्दी, और विश्वनाथ मंदिर।

क्या नैमिषारण्य एक पर्यटनीय स्थल है?

हां, नैमिषारण्य एक पर्यटनीय स्थल है और इस पावन स्थल का दर्शन करने के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं।

read more…. हाउसबोट और साइटसीइंग का आनंद लेने के लिए मशहूर भारत की सबसे लम्बी झील – वेम्बनाद झील

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button