शेयर बाजार

राष्ट्रीय स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) ने छः स्टॉकों के फ्यूचर्स और आप्शन (एफएंडओ) में व्यापार पर पाबंदी लगाई

वैश्विक बाजारों में तनाव के बीच, भारतीय शेयर बाजार में एक महत्वपूर्ण घटना हुई है। दिनांक 9 अगस्त, 2023 को राष्ट्रीय स्टॉक एक्सचेंज ने छः स्टॉकों/सुरक्षितों के फ्यूचर्स और आप्शन में व्यापार की पाबंदी लगा दी। इन स्टॉकों में इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस, डेल्टा कॉर्प, हिंदुस्तान कॉपर, चंबल फर्टिलाइजर्स & केमिकल्स, बलरामपुर चीनी मिल्स और इंडिया सीमेंट्स शामिल हैं, जिन्हें राष्ट्रीय स्टॉक एक्सचेंज ने एफएंडओ में व्यापार पर पाबंदी लगाई है।

पाबंदी का कारण

राष्ट्रीय स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के अनुसार, उपरोक्त स्टॉकों को एफएंडओ सेक्टर में पाबंदी लगाई गई है क्योंकि इनमें से 95% से अधिक बाजार-व्यापी पोजीशन सीमा (एमडब्ल्यूपीएल) को पार कर चुके हैं। एफएंडओ बैन की अवधि के दौरान उस स्टॉक के लिए एफएंडओ अनुबंधों के लिए कोई नई पोजीशनें अनुमति नहीं हैं।

तकनीकी विश्लेषक की राय

“निफ्टी इंडेक्स ने तुलनात्मकता दिखाई दी, लेकिन महत्वपूर्ण 21EMA मूविंग एवरेज के ऊपर बंद होने में कामयाब रहा और 19500 अंक के ऊपर समर्थन बनाए रखा। जब तक इंडेक्स 19500 के ऊपर बना रहता है, तब सकारात्मक प्रवृत्ति की प्रतीक्षा होती है, 19700 पर प्रतिरोध है और 20000 की ओर एक रैली की संभावना है,” यह कहते हैं लार्किप सिक्योरिटीज के वरिष्ठ तकनीकी विश्लेषक रूपक दे।

बाजार की चुनौतियों का सामना

मंगलवार को मुख्य सूचनाएं एनएसई निफ्टी 50 और बीएसई सेंसेक्स में नकारात्मक वैश्विक संकेतों के बीच में समाप्त हुई। निफ्टी 50 ने 19,570.85 अंक पर 26.45 अंक या 0.13% तक गिरावट देखी, और सेंसेक्स ने 65,846.50 अंक पर 106.98 अंक या 0.16% तक गिरावट देखी। क्षेत्रीय सूचनाओं में, बैंक निफ्टी ने 44,964.45 अंक पर 126.95 अंक या 0.28% तक वृद्धि दर्ज की, निफ्टी आईटी में 0.15% की बढ़ोतरी हुई, निफ्टी PSU बैंक ने 3.37% तक उछाल दर्ज की, निफ्टी फार्मा ने 0.64% तक उछाल दर्ज की जबकि निफ्टी ऑटो में 0.31% की गिरावट आई, निफ्टी एफएमसीजी में 0.28% की गिरावट देखी, निफ्टी मेटल में 1.17% की गिरावट आई और निफ्टी रियल्टी में 0.18% की गिरावट आई।

चुनौती और मौके

निफ्टी 50 के शीर्ष लाभकारी शेयर SBI Life Insurance, Hero MotoCorp, Cipla, Tech Mahindra और Wipro थे, जबकि शीर्ष हानिकारक शेयर Adani Enterprises, Hindalco Industries, Mahindra & Mahindra, Divi’s Labs और JSW Steel थे।

परिणाम

यह स्टॉक बाजार में हुई पाबंदी का मतलब है कि यह वित्तीय बाजार के संकेतों का एक महत्वपूर्ण उत्तरदायी हो सकता है। इन स्टॉकों में व्यापार पर लगी पाबंदी बाजार में तनाव को बढ़ा सकती है और विशेषज्ञों को बाजार की स्थिति को समझने में मदद कर सकती है।

Read more…बीएसई सेंसेक्स ने उच्चतम स्तर पर 65,721 अंक पर पहुंचकर एक विशेषज्ञ बढ़ोतरी दिखाई

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button