उत्तर प्रदेश / यूपीक्राइम

न फेरे न मंत्र…फोटो खिंचवाए और हो गई शादी, संपत्ति हड़पने के लिए युवती ने रचाईं दस शादियां

गाजियाबाद के मुरादनगर के मामले में पुलिस को एक बड़ी सफलता मिली है यहाँ के यूएमआईटी कॉलेज की चेयरपर्सन डॉ. सुधा सिंह की 200 करोड़ की संपत्ति को हड़पने के लिए जालसाजों ने उनके एकलौते मंदबुद्धि बेटे को इसके लिए शिकार बनाया गया गिरोह की प्रीति नाम की महिला ने उसके साथ शादी रचाई। इन जालसाजों के खिलाफ़ सुधा सिंह की बेटी आकांक्षा ने शिकायत की तो इसका खुलासा हुआ।

कैसे संपत्ति को हड़पने के लिए की साजिश

इस गिरोह की लड़की प्रीति ने अमीरो की संपत्ति हड़पने के लिए 10 शादिया कर डाली। इस बार इस गिरोह की नजर गाजियाबाद के मुरादनगर यूएमआईटी कॉलेज की चेयरपर्सन डॉ. सुधा सिंह की 200 करोड़ की संपत्ति पर थी। मगर इस गिरोह के द्वारा रची गयी साजिस का खुलासा तब हुआ जब मास्टरमाइंड सचिन को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

गाजियाबाद के मसूरी के नूरपुर गांव का निवासी हिस्ट्रीशीटर सचिन इस जालसाजी का मास्टरमाइंड है। इस गिरहो में उसके साथ उसकी बहन प्रवेश, रोहतक की प्रीति और दिल्ली की हरीदास कॉलोनी की नीलम शामिल है। इस साजिश का खुलासा पुलिस की पूछताछ में गिरफ्तार सचिन ने बताया कि वह ऐसे अमीरजादों को तलाश करता है, जिनकी किसी वजह से शादी नहीं हो रही होती है। ऐसे घर की लैब वो तलाश कर लेता है तो प्रीति को सहायिका बनाकर उस घर में भेज देता है और फिर खुद उसका रिस्तेदार बनकर उस घर में प्रवेश कर लेता है। उसकी बाद नीलम प्रीति की मौसी बनकर उस घर में आ जाती है। और इस तरह से ये लोग साजिश के तहत प्रीति की शादी करवाते और संपत्ति को हड़प लेते।

संपत्ति को हड़पने के लिए क्या करते थे

इस गिरोह ने संपत्ति को हड़पने के लिए कई महीनो से तैयारी कर रखी होती थी। इसी तरह से गिरोह ने यूएमआईटी कॉलेज की चेयरपर्सन डॉ. सुधा सिंह की संपत्ति को हड़पने के लिये साजिश रची उन्हें पता था की सुधा सिंह को गंभीर बीमारी है जिसके चलते वो ज्यादा दिन तक जीवित नहीं रहेंगी।

सचिन की बहन प्रवेश को इस बात की भी जानकारी थी की सुधा अपने मंदबुद्धि बेटे के लिए बहुत चिंतित रहती है। जिसके लिए प्रवेश ने साजिश का जाल बनाया। जिसके लिए उसने सुधा सिंह को अपनी बातो में फंसा कर एक अच्छी घरेलु सहायिका दिलाने की बात कही। प्रवेश खुद सुधा के अन्य परिचितों के यहाँ सहायिका के तौर पर काम कर रही थी।

बिना मंत्र पढ़े और बिना फेरे लिए हो गयी शादी

पुलिस की पूछताछ में सचिन ने बताया कि इस साजिश को अंजाम प्रीति ने दिया जिसके लिए प्रीति ने पहले तो सुधा सिंह के बेटे से नजदीकियां बढ़ाई। सुधा के बेटे के मंदबुद्धि होने का फायदा उठाते हुए एक दिन उसने अस्पताल के कमरे में उसके गले में माला डाल दी और उससे अपने गले में माला डालने को कहा। उसने वैसा ही किया जैसा प्रीति ने उससे बोला। इस साजिश के बारे में सुधा के बेटे को भी जरा सा अहसास नहीं हुआ और प्रीति ने इस सभी के फोटो खींच कर रख लिए। इस शादी में कोई मंत्र पढ़े गए न कोई फेरे लिए गए।

सुधा सिंह को इसके बारे में किसी प्रकार की कोई जानकारी नहीं थी कि गले में सिर्फ माला डालकर फोटो खिंचाए गए है। उनके बेटे को बार-बार ये बताया जा रहा था कि उसकी शादी प्रीति से हो गयी है। सचिन ने साजिश के तहत आगे की तैयारी कर रखी थी कि आधार कार्ड, पैन कार्ड में प्रीति का नाम सुधा सिंह के बेटे की पत्नी के रूप में जोड़ना है जिससे सुधा सिंह की २०० करोड़ की संपत्ति पर दावा किया जा सके।

सुधा सिंह की मौत होने की बाद उनकी बड़ी बेटी डॉ.आकांक्षा ७ अगस्त को घर पर आती है। और प्रीति को बोलती है की अब उसकी कोई जरुरत नहीं वो जा सकती है इसपर प्रीति उस घर की बहु होने का दवा करते हुए आकांक्षा को फोटो दिखती है यह देखकर वह हैरान रह जाती है क्योंकि इस शादी के बारे में सुधा ने उसको कुछ भी नहीं बताया था और इस शादी का कोई पजीकरण था और ना किसी मंदिर में की गयी। आकांक्षा को शक हुआ कि ये सब संपत्ति हड़पने लिए साजिश की गयी है जिसके लिए उसने गाजियाबाद पुलिस के बरिष्ठ अधिकारियो से बात करके उनकी मदद ली। जिसपर मुरादनगर पुलिस ने २२ सितम्बर को मामला दर्ज कर जाँच शुरू की और मास्टरमाइंड सचिन को पकड़ लिया।

गिरोह की अन्य लड़कियों को भी पुलिस ने सोनीपत से पहले ही गिरफ्तार कर लिया है। प्रीति ने सोनीपत और आसपास के इलाके में कई फर्जी शादियां की है शादी करने के बाद वो झगड़ा करके भाग जाती और ब्लैकमेल करके पैसे मांगती थी। पुलिस अब प्रीति की तलाश कर रही है।

Read more….वडोदरा: नौकरी देने के बहाने नागालैंड की 29 वर्षीय लड़की से स्पा मालिक ने बलात्कार किया

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button